बहनों का अर्धनग्न शव पीरागढ़ी नाले से मिला था। बड़ी बहन ने चार साल पहले गैर धर्म में प्रेम विवाह किया था। बाद में उसे पता चला कि प्रेमी पहले से शादीशुदा है।

बहनों का अर्धनग्न शव पीरागढ़ी नाले से मिला था। बड़ी बहन ने चार साल पहले गैर धर्म में प्रेम विवाह किया था। बाद में उसे पता चला कि प्रेमी पहले से शादीशुदा है।

 कंपनी में साक्षात्कार देने के लिए 19 सितंबर को घर से निकलीं सीलमपुर इलाके के चौहान बांगर की दो सगी बहनों की हत्या कर दी गई थी। रविवार रात को अलीपुर स्थित पीरागढ़ी नाले से दोनों के शव अर्धनग्न व सड़ी-गली हालत में मिले थे। दोनों की पहचान रुखसार (22) और नबीला (19) के रूप में हुई है। घरवालों का आरोप है कि रुखसार के पति लक्की ने दोनों की हत्या की है। पुलिस दहेज हत्या का मामला दर्ज कर जांच कर रही है।बहनों का अर्धनग्न शव पीरागढ़ी नाले से मिला था। बड़ी बहन ने चार साल पहले गैर धर्म में प्रेम विवाह किया था। बाद में उसे पता चला कि प्रेमी पहले से शादीशुदा है।रविवार देर रात पीरागढ़ी नाले में पुलिस को दो शव मिले, लेकिन पहचान नहीं हो पाई। एक के शरीर पर शर्ट थी तो जींस गायब थी और दूसरे की सलवार थी तो कमीज नहीं थी। पुलिस ने जिपनेट (गायब हुए लोगों की पहचान के लिए बनाई गई वेबसाइट) की मदद से परिवार से संपर्क किया। सोमवार देर शाम परिजनों ने दोनो की पहचान की। परिजनों का कहना है कि उनके प्राइवेट पार्ट जलाए गए थे, हालांकि पुलिस ने इससे इन्कार किया है।

 

बड़ी बहन ने चार साल पहले गैर धर्म में किया था प्रेम विवाह

सगी बहनों की हत्या में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। पता चला है कि बड़ी बहन ने चार साल पहले परिवार की मर्जी के खिलाफ गैर धर्म के युवक लकी से प्रेम विवाह किया था। प्रेम विवाह के बाद युवती को पता चला कि उसका प्रेमी पहले से शादीशुदा है। इसके बाद दोनों के बीच विवाद बढ़ गया। करीब छह माह पहले युवती पति को छोड़ मायके वापस लौट आयी थी। वह पति को तलाक देने वाली थी। परिजन को आशंका है कि इसी वजह से लकी ने दोनों बहनों की हत्या की है।

दो सगी बहनों की हत्या के मामले में आरोपित लक्की एक ही घर में दो पत्नियों के साथ रहता था। उसने फेसबुक पर अपना नाम लक्कीपुर रखा हुआ है। रुखसार की लक्की से एक मुलाकात से शुरू हुई दोस्ती इतनी आगे बढ़ी कि रुखसार ने परिवार के खिलाफ जाकर चार वर्ष पहले उससे शादी कर ली थी।

पहली पत्नी को बताया था रिश्तेदार

वह इस बात से बिल्कुल अनजान थी कि लक्की उसके लिए इतना अनलकी साबित होगा। शादी करने से पहले रुखसार को इस बात की भनक तक नहीं थी कि लक्की पहले से ही शादीशुदा है और उसके बच्चे भी हैं। शादी के बाद जब रुखसार लक्की के घर गई तो लक्की ने पहली पत्नी को रिश्तेदार बताया, लेकिन ज्यादा दिन वह झूठ नहीं बोल सका। रुखसार को लक्की की पहली पत्नी के बारे में पता चल गया। वहीं से दोनों में झगड़े की शुरुआत हुई।

झगड़े के बाद भी लक्की ने दोनों पत्नियों को एक घर में ही रखा हुआ था। वह अक्सर रुखसार के साथ मारपीट करता था। रुखसार के परिवार के सदस्यों ने बताया कि शादी के पहले जब रुखसार ने दूसरे धर्म के लक्की से शादी करने के लिए कहा तो वे लोग इसके लिए राजी नहीं हुए। उसने अपनी मर्जी से लक्की से शादी कर ली थी।

शादी में शामिल नहीं हुआ था रुखसार का परिवार

रुखसार की शादी में परिवार का कोई सदस्य शामिल नहीं हुआ था। शादी के थोड़े समय बाद शिकायतें कम हुईं तो रुखसार ने मायका आना शुरू कर दिया था। उसके साथ उसका पति लक्की भी आने लगा। परिजनों ने बताया कि लक्की रुखसार को छोटी-छोटी बातों पर पीटता था।

कई बार दे चुका है जान से मारने की धमकी

रोज-रोज के झगड़ों से परेशान होकर छह महीने पहले रुखसार अपने सीलमपुर स्थित मायके आ गई थी। लक्की ने यहां भी रुखसार का पीछा नहीं छोड़ा। वह यहां आकर रुखसार पर दबाव बना रहा था कि वह उसके साथ घर वापस चले। कई बार उसने परिवार और रुखसार को जान से मारने की धमकियां भी दीं। परिवार चाहता था कि रुखसार इस बार लक्की को तलाक दे दे, ताकि उसे रोज-रोज की लड़ाई से छुटकारा मिल जाए। इसके लिए रुखसार भी तैयार थी।

हत्या के बाद लकी ने डिलीट किया फेसबुक अकाउंट

लक्की ने लक्कीपुर नाम से फेसबुक पर अकाउंट बनाया था। उसने अपने फेसबुक वॉल पर आखिरी स्टेटस डाला था- अपने हमें छोड़कर चले गए। उसने अपने फेसबुक अकाउंट पर पहली पत्नी के अलावा उससे होने वाली दो बेटियों के फोटो डाले हुए थे। इसके साथ ही लक्की ने दूसरी पत्नी रुखसार के साथ भी अपने कई फोटो शेयर किए हुए थे।

22 सितंबर को लक्की ने फेसबुक वॉल पर नई तस्वीर लगाई, जिसमें लिखा-अपने हमें छोड़कर चले गए। 25 सितंबर को जब दोनों बहनों के शव पोस्टमार्टम के बाद मायके पहुंचे और इस मामले ने तूल पकड़ा तो लक्की ने उसी दिन शात सात बजे अपना फेसबुक अकाउंट डिलीट कर दिया। परिजनों का कहना है कि लक्की ने हत्या के बाद अपने फेसबुक पर यह स्टेटस डाला होगा। इस बारे में पुलिस का कहना है कि वह इस मामले को भी ध्यान में रखकर जांच करेगी। परिजनों का कहना है रुखसार की बेटी है, उसकी परवरिश वहीं लोग करेंगे।

थाने में कई बार की गई थीं शिकायतें

इस दोहरे हत्याकांड में पुलिस की भी बड़ी गलती सामने आई है। रुखसार के चचेरे भाई ने बताया कि रुखसार ने तीन बार 100 नंबर पर कॉल करके अपने साथ हुई मारपीट की शिकायत अलीपुर थाने में की थी। इसके अलावा तीन बार सीलमपुर थाने में भी लक्की के खिलाफ शिकायतें की गई थीं। उन्होंने बताया कि 19 सितंबर को दोनों बहनों के लापता होने के अगले दिन, 20 अगस्त को रुखसार की मां अलीपुर थाने में गई थी। वहां उन्होंने पुलिस को बताया कि लक्की ने उनकी बेटियों को अगवा कर लिया है। फिर भी पुलिस ने कार्रवाई नहीं की।

शाम के वक्त साक्षात्कार पुलिस को शक

परिवार का कहना है कि रुखसार और नबीला 19 सितंबर शाम पांच बजे घर से साक्षात्कार देने के लिए निकली थीं। यह बात पुलिस के शक के दायरे में है कि आखिर शाम के वक्त कंपनी साक्षात्कार के लिए क्यों बुलाएगी। परिवार नहीं बता पा रहा कि दोनों बहनें किस कंपनी में नौकरी के लिए गई थीं। हो सकता है कि दोनों बहनें लक्की से मिलने के लिए गई हों। वहीं परिजनों का कहना है कि पीरागढ़ी के नाले से दोनों बहनों का शव मिला है, रुखसार का पति लक्की भी पीरागढ़ी में रहता है।

You Might Also Like