मारपीट कर दुष्कर्म की धमकी देकर 60 हजार रुपए और 10 तोला सोना लूटा

मारपीट कर दुष्कर्म की धमकी देकर 60 हजार रुपए और 10 तोला सोना लूटा

शोर मचाने पर मेरे मुंह को रूमाल से बांध दिया गया। साड़ी से हाथ-पैर बांध दिए। जमीन पर बैठाकर चाकू अड़ाकर थप्पड़ मारे और तीनों आरोपित गाली-गलौज कर ज्यादती की धमकी देने लगे। तब मैं मानसिक रूप से टूट गई और मैंने खुद ही अपने जेवर उताकर उन्हें दे दिए।

यह आपबीती है 59 वर्षीय मधुलिका जैन की है जिनके कोलार स्थित घर में शुक्रवार की दोपहर तीन आरोपित 30 मिनट में 60 हजार रुपए और 10 तोला सोना लूटकर फरार हो गए। उन्होंने बताया कि घर की पहली मंजिल पर तीन कमरे हैं। उनमें से दो में लोहे की अलमारी है। जिसमें सोने-चांदी के जेवरात और नकदी थी। आरोपित उन कमरों में गए और पत्थरों से अलमारियों के लॉकर तोड़कर सामान ले गए। इधर मधुलिका के पति व्यापारी राकेश जैन ने बताया कि आरोपितों की संख्या तीन है।

सामने रहने वाले युवक ने खोले हाथ-पैर

वारदात करने के बाद मधुलिका के हाथ-पैर और मुंह बांधकर आरोपित फरार हो गए थे। वह किसी तरह से मुख्य दरवाजे पर पहुंची और बंधे मुंह से आवाज निकालने लगी। इस बीच सामने रहने वाले युवक हिमांशु कुमार ने उन्हें देखा और उनके हाथ-पैर खोले। इसके बाद पीड़िता ने रिश्तेदारों और पुलिस को सूचना दी।

30 मिनट में की पूरी वारदात

शुरुआती जांच में सामने आया कि लुटेरों को पता था कि राकेश जैन रोज घर से दोपहर सवा दो बजे खाना खाकर निकलते हैं। जब वह पौने तीन बजे अपनी दुकान का ताला खोल रहे थे, तभी उनके पास वारदात की सूचना का फोन आ गया। यानी उनके घर से निकलते ही बदमाश घुसे थे। ऐसे पता चलता है कि 30 मिनट में आरोपित वारदात करके घर से फरार हो गए।

नकाब और चश्मा भी पहने थे

जब पहला आरोपित दरवाजे पर धक्का देकर अंदर आया, तब उसने नकाब नहीं पहना था। उसके पीछे आए दो बदमाश नकाब और काला चश्मा लगाए थे। बाद में पहले आरोपित ने भी नकाब पहन लिया। ऐसे नकाब बाजार में मिलते हैं। आरोपितों की भाषा समझ में नहीं आ रही थी। वे गालियां ज्यादा दे रहे थे। जब उन्होंने पूछा कि घर में सीसीटीवी लगे हैं तो मैंने कहा कि लगे हैं, तब आरोपित चाकू लेकर मेरे पास बैठ गया। उसने ऊपर कमरे में लॉकर तोड़ रहे आरोपित को सी-सी करके आवाज लगाई।

मधुलिका के जीजा रमेश जैन ने बताया कि मूलतः राकेश जैन पिता गुलाबचंद्र जैन खुरई सागर का रहने वाले हैं। इनका परिवार शहर के मशहूर चंद्र वस्त्रालय वालों के रिश्तेदार है। राकेश का बेटा शुभम जैन असम घूमने गया हुआ है। चौकाने वाले बात यह है कि आरोपित महिला का ज्यादती की धमकी दे रहे थे। हालांकि एक आरोपित ने यह बोला कि डरो मत आप हमारी मां के सामान हो।

डॉग स्क्वॉड और चश्मदीद का इशारा बांसखेड़ी की ओर

वारदात के बाद डॉग स्क्वॉड को बुलाया गया। वह राकेश जैन के मकान से निकलकर बांसखेड़ी झुग्गी की तरफ गया। इधर, महिला के हाथ पैर खोलने वाले हिमांशु ने बताया कि आराोपित बांसखेड़ी की तरफ जाते देखा था। पुलिस को चश्मदीद मिले हैं। उनके अनुसार आरोपि ब्लू और सफेद शर्ट और टी शर्ट पहने थे।

सीसीटीवी बंद मिला

पुलिस ने पूरे इलाके में सीसीटीवी फुटेज तलाशे तो दानिश कुंज के पास गैलेक्सी अस्पताल के सीसीटीवी लगा मिला। लेकिन यह बंद था। वहां पर एयरटेल का कोई काम चल रहा था। अब पुलिस शनिवार को एक बार फिर फुटेज की तलाश करेगी।

इनका कहना है

मैं बालकनी में खड़ा था। जैसे ही मैंने हाथ-पैर बंधे आंटी को देखा तो उनके पास पहुंच गया। उन्हें मुक्त करवाया। आरोपित तीन लोग थे। जो एक बैग लेकर भाग रहे थे।

You Might Also Like