CBI डायरेक्‍टर आलोक वर्मा के घर के बाहर IB स्‍टाफ से बदसलूकी, दावा- नहीं हो रही जासूसी

CBI डायरेक्‍टर आलोक वर्मा के घर के बाहर IB स्‍टाफ से बदसलूकी, दावा- नहीं हो रही जासूसी

सीबीआइ के डायरेक्‍ट आलोक वर्मा के घर से बाहर से चार लोगों को हिरासत में लिया गया है। बताया जा रहा है कि ये सभी आलोक वर्मा के घर के बाहर हंगामा कर रहे थे। इसके बाद आलोक वर्मा के निजी सुरक्षा गार्ड उन्‍हें पकड़कर घर के भीतर ले गए और पूछताछ शुरू कर दी। दिल्‍ली पुलिस को भी मामले की सूचना दे दी गई। हिरासत में लिए गए चारों आइबी के अधिकारी हैं। इस बीच सीबीआइ मुख्‍यालय की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।सीबीआइ के डायरेक्‍ट आलोक वर्मा के घर से बाहर से चार लोगों को हिरासत में लिया गया है। बताया जा रहा है कि ये सभी आलोक वर्मा के घर के बाहर हंगामा कर रहे थे। इसके बाद आलोक वर्मा के निजी सुरक्षा गार्ड उन्‍हें पकड़कर घर के भीतर ले गए और पूछताछ शुरू कर दी। दिल्‍ली पुलिस को भी मामले की सूचना दे दी गई। हिरासत में लिए गए चारों आइबी के अधिकारी हैं। इस बीच सीबीआइ मुख्‍यालय की सुरक्षा बढ़ा दी गई है।  दिल्ली पुलिस ने चारों संदिग्‍ध लोगों को हिरासत में ले लिया है और पूछताछ कर रही है। इस बीच आइबी की ओर से सफाई भी सामने आ गई है। आइबी की ओर से बताया गया कि सीबीआइ के डायरेक्‍टर आलोक वर्मा के 2 जनपथ स्थित घर के पास से वर्मा के पीएसओ ने जिन 4 लोगों के साथ संदिग्‍ध समझकर बदसलूकी की, वे आइबी का स्‍टाफ है। जनपथ हाई सिक्‍योरिटी जोन में आता है, इसलिए आइबी का स्‍टाफ वहां हमेशा रहता है। आइबी का कहना है कि आलोक वर्मा को लेकर कोई जासूसी नहीं की जा रही थी।  सीबीआइ डायरेक्टर आलोक वर्मा को केंद्र सरकार ने बुधवार को फोर्स लीव पर भेज दिया। इस फैसले के खिलाफ आलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और इस पर सुनवाई करने को सुप्रीम कोर्ट तैयार हो गया है। एम नागेश्‍वर राव को उनकी अनुपस्थिति में सीबीआइ का कार्यभार सौंपा गया है।  –– ADVERTISEMENT ––     सावधान! स्मार्टफोन से पति-पत्नी के बीच सोशल मीडिया बना 'वो' यह भी पढ़ें सीबीआइ के चीफ आलोक वर्मा और स्‍पेशल डायरेक्‍टर राकेश अस्‍थाना के बीच मचे घमासान के बीच ज्वाइंट डायरेक्टर एम नागेश्वर राव को सीबीआइ का अंतरिम निदेशक बनाया गया है। अग्रिम आदेशों तक अब सीबीआइ का कामकाज नागेश्वर राव ही देखेंगे। आलोक वर्मा और राकेश अस्‍थाना को फोर्स लीव पर भेज दिया गया है। ऐसा लग रहा है कि दोनों अफसरों के बीच अभी खींचतान लंबी चलेगी

दिल्ली पुलिस ने चारों संदिग्‍ध लोगों को हिरासत में ले लिया है और पूछताछ कर रही है। इस बीच आइबी की ओर से सफाई भी सामने आ गई है। आइबी की ओर से बताया गया कि सीबीआइ के डायरेक्‍टर आलोक वर्मा के 2 जनपथ स्थित घर के पास से वर्मा के पीएसओ ने जिन 4 लोगों के साथ संदिग्‍ध समझकर बदसलूकी की, वे आइबी का स्‍टाफ है। जनपथ हाई सिक्‍योरिटी जोन में आता है, इसलिए आइबी का स्‍टाफ वहां हमेशा रहता है। आइबी का कहना है कि आलोक वर्मा को लेकर कोई जासूसी नहीं की जा रही थी।

सीबीआइ डायरेक्टर आलोक वर्मा को केंद्र सरकार ने बुधवार को फोर्स लीव पर भेज दिया। इस फैसले के खिलाफ आलोक वर्मा ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया और इस पर सुनवाई करने को सुप्रीम कोर्ट तैयार हो गया है। एम नागेश्‍वर राव को उनकी अनुपस्थिति में सीबीआइ का कार्यभार सौंपा गया है।

सीबीआइ के चीफ आलोक वर्मा और स्‍पेशल डायरेक्‍टर राकेश अस्‍थाना के बीच मचे घमासान के बीच ज्वाइंट डायरेक्टर एम नागेश्वर राव को सीबीआइ का अंतरिम निदेशक बनाया गया है। अग्रिम आदेशों तक अब सीबीआइ का कामकाज नागेश्वर राव ही देखेंगे। आलोक वर्मा और राकेश अस्‍थाना को फोर्स लीव पर भेज दिया गया है। ऐसा लग रहा है कि दोनों अफसरों के बीच अभी खींचतान लंबी चलेगी

You Might Also Like