Jio की सफलता के बाद मुकेश अंबानी ने बताया 2019 से मिलेगी यह सुविधा

Jio की सफलता के बाद मुकेश अंबानी ने बताया 2019 से मिलेगी यह सुविधा

 जियो (Reliance Jio) से टेलीकॉम इंडस्ट्री में धमाल मचाने के बाद रिलायंस इंडस्ट्रीज (Reliance Industries) के चेयमरैन मुकेश अंबानी ने कई बड़े ऐलान किया. वह दिल्ली में आयोजित मोबीकॉम 2018 (MobiCom 2018) में बोल रहे थे. इस दौरान उनका सबसे ज्यादा फोकस डाटा कनेक्टिविटी पर रहा. उन्‍होंने कहा कि साल 2019 तक भारत की 99.9 फीसदी आबादी के पास हाईस्‍पीड डाटा कनेक्टिविटी होगी. उन्होंने कहा भारत की अर्थव्यवस्था मजबूत स्थिति में है. जियो एक व्‍यवसाय नहीं है बल्कि यह डिजिटल अभियान है.  

टेक-सेवी युवा हमारी ताकत
अगले दो दशकों में भारत विश्‍व का नेतृत्‍व करेगा. आज का भारत कल के भारत से एकदम अलग है. आज का भारत युवा है. 63 फीसदी आबादी 35 साल से कम उम्र की है. भारत की विशाल टेक-सेवी युवा जनसंख्‍या ही इसकी ताकत है. उन्‍होंने कहा कि भारत के विकास में सबकी भागीदारी है. मोबीकॉम 2018 में बोलते हुए उन्होंने कहा कि भारत अगले दो दशक में भारत और मजबूत बनने वाला है. उन्होंने कहा कि भारत में टेलीकॉम सेक्टर में अभूतपूर्व क्रांति हुई है.

देश में सबसे ज्यादा युवा आबादी
पीएम मोदी के नेतृत्व में देश में तेजी से विकास कर रहा है. उन्होंने भारत के युवाओं का जिक्र करते हुए कहा कि देश में सबसे ज्यादा युवा आबादी है और आने वाले समय में इसी से देश को आगे बढ़ने में मदद मिलेगी. मुकेश अंबानी ने कहा कि भारत 2019 तक हर भारतीय के पास डेटा की ताकत होगी. भारत में कारोबार की तमाम संभावनाएं हैं. रिलायंस इंडस्ट्रीज भी कई सेवाओं को डिजिटल करने पर जोर दे रही है. उन्होंने कहा कि आने वाले समय में कृषि और स्वास्थ्य सुविधाओं को डिजिटल करने की आवश्यकता है. सही नीतियों की वजह से देश को डिजिटल करने की दिशा में काम करने में आसानी हुई.

डिजिटलाइजेशन की मदद से हर दिन हो रहे नए बदलाव
मोबीकॉम कॉन्फ्रेंस 2018 में हिस्सा लेने के बारे में बताते हुए अंबानी ने कहा कि जब नारायण मूर्ति ने मुझे फोन कर रोहन मूर्ति से मिलने के लिए और मोबीकॉम 2018 में कीनोट स्पीकर बनने के लिए कहा तो मैं खुशी-खुशी राजी हो गया. मैं आत्मविश्वास के साथ कह सकता हूं कि दुनिया में यदि कोई जगह है जहां डिजिटलाइजेशन की मदद से हर दिन नए बदलाव हो रहे हैं तो वह भारत है.

You Might Also Like