स्वतंत्रता और शांति की दिशा में ‘सुरक्षा कवच’ बनेंगे भारत

स्वतंत्रता और शांति की दिशा में ‘सुरक्षा कवच’ बनेंगे भारत

दुनिया के सबसे शक्तिशाली देशों की सूची में  गिने जाने वाले देश अमेरिका और भारत के बीच कई दशकों से दोस्ताना रिश्ते थे. हालाँकि पिछले कुछ महीनो में इन दोनों देशों के रिश्तों में थोड़ी दरारे जरूर आई थी जब अमेरिका ने प्रवासीय भारतीयों पर सख्ती दिखाते हुए उनपर कई प्रतिबन्ध लगाए थे. लेकिन पिछले कुछ समय से अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प लगातार भारत को लेकर जो बयान दे रहे है उनसे लगता है कि वे भी अब दोनों देशो के बीच के रिश्तों को बेहतर बनाने की दिशा में प्रयासरत हो चुके है. 

ट्रम्प प्रशासन की सख्त वीजा नीति के कारण अमेरिका ने घट रहे विदेशी छात्र

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने हाल ही में  ऐसा एक और बयान दिया है जिससे भारत और अमेरिका के संबंध और मजबूत होने की उम्मीदे जताई जाने लगी है. राष्ट्रपति ट्रम्प ने अपने हालिया बयान में कहा है कि भारत और अमेरिका के सम्बन्ध इन दोनों देशों के साथ-साथ बाकी दुनिया के लिए भी स्वतंत्रता, समृद्धि और शांति की दिशा में एक ‘‘सुरक्षा कवच’’ की तरह काम कर सकते है. दरअसल राष्ट्रपति ट्रम्प ने कल वाइट हाउस में दीपक जला कर दिवाली मनाई थी और इसके बाद उन्होंने दुनिया भर के लोगों को इस त्यौहार की शुभकामनायें देते हुए यह बयान दिया है.

मैक्सिको से अमेरिका में घुसने वाले शरणार्थियों पर ट्रम्प प्रशासन ने लगाया प्रतिबन्ध

इस दौरान ट्रम्प ने यह भी कहा कि भारत विश्व का सबसे बड़ा लोकतंत्र है और अमेरिका और भारत के बीच के रिश्ते बेहद गहरे रिश्ते हैं. इसके साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि वे भारत के  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को अपना मित्र मानते है और उनकी बहुत इजात भी करते है

You Might Also Like