अयोध्या मामलाः किसने कहा मुस्लिमों के खिलाफ फिर बन रहा है 1992 जैसा माहौल

अयोध्या मामलाः किसने कहा मुस्लिमों के खिलाफ फिर बन रहा है 1992 जैसा माहौल

केंद्र में नरेंद्र मोदी सरकार को समर्थन दे रही शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे 25 नवंबर को अयोध्या आने का ऐलान कर चुके हैं। उनके आगमन से पहले पार्टी के प्रवक्ता संजय राउत दो बार यहां का दौरा कर चुके हैं। अयोध्या पहुंचे शिवसेना के राष्ट्रीय प्रवक्ता संजय राउत ने कहा कि अयोध्या में श्रीराम का भव्य मंदिर बनाने को लेकर अगर हम सुप्रीम कोर्ट के फैसले का इंतजार करेंगे तो इसमें हजार वर्ष से अधिक का समय लग सकता है। 

25 हजार बजरंगियों की होगी भर्ती

मंदिर आंदोलन को पुन: प्रभावी बनाने और 25 नवंबर को प्रस्तावित धर्मसभा का कामयाब बनाने की जुगत में लगी विहिप अवध प्रांत में 25 हजार बजरंगदल कार्यकर्ताओं की भर्ती करेगी। विहिप के प्रांतीय संगठन मंत्री भालेंद्र ने बताया कि भावी कार्ययोजना को लेकर व्यापक तैयारी की जा रही है और इसी क्रम में विहिप की अवध प्रांत, कानपुर प्रांत, गोरक्ष प्रांत एवं काशी प्रांत इकाई की अयोध्या के कारसेवकपुरम में बैठक की जा चुकी है। संघ के पदाधिकारियों के साथ भी समन्वयक बैठक कर भावी कार्यक्रम की रूपरेखा तय की गई। 

इस बार करणी सेना भी सक्रिय

मंदिर निर्माण की दावेदारी में श्रीराजपूत करणीसेना भी शामिल हो गई है। समर्थकों के साथ बुधवार रामनगरी पहुंचे करणी सेना संस्थापक संरक्षक लोकेंद्र सिंह कालवी ने कहा कि राममंदिर की ओर हमारा ध्यान हाल ही में संशोधित एससी-एसटी कानून पारित होने के बाद गया। वह इसलिए कि यदि सुप्रीमकोर्ट के आदेश को दरकिनार कर सरकार एससी-एसटी एक्ट का संशोधित कर सकती है तो मंदिर निर्माण का कानून क्यों नहीं बना सकती। मीडिया से मुखातिब लोकेंद्र ने कहा कि भगवान राम राजकुमार थे और उनका जन्म राजमहल में हुआ होगा। इसलिए रामजन्मभूमि पर राजमहल बनना चाहिए। यह काम करणीसेना करेगी। इसी जिम्मेदारी के तहत करणीसेना की ओर से सुप्रीमकोर्ट में रामजन्मभूमि की दावेदारी से जुड़ी याचिका विचाराधीन है।

You Might Also Like