उत्तर प्रदेश टेट 2018: में लाख अभ्यर्थी दे रहे परीक्षा, अलीगढ़ से पकड़ा गया एक सॉल्वर

उत्तर प्रदेश टेट 2018: में लाख अभ्यर्थी दे रहे परीक्षा, अलीगढ़ से पकड़ा गया एक सॉल्वर

रविवार को सुबह 10 बजे से शुरू होने जा रही शिक्षक पात्रता परीक्षा (टीईटी) 2018 के पहले ही अलीगढ़ से एक संदिग्ध व्यक्ति के गिरफ्तार किए जाने की खबर सामने आई है. जानकारी के मुताबिक यूपी टीईटी 2018 एग्जाम को लेकर शनिवार देर रात एसओजी ने अलीगढ़ के इगलास से एक संदिग्ध व्यक्ति को हिरासत में लिया था. टीम ने इगलास क्षेत्र में एक कंप्यूटर की दुकान पर छापा मारा, जहां परीक्षा के हॉल टिकट तैयार किए जा रहे थे. पुलिस को अंदेशा है कि वहां परीक्षा में सॉल्वर बैठाए जाने की तैयारी चल रही थी. उम्मीद जताई जा रही है कि पुलिस पूछताछ के बाद रविवार को पूरे मामले का खुलासा कर सकती है.

प्रयागराज में बने हैं सबसे ज्यादा केन्द्र
उप्र शिक्षक पात्रता परीक्षा यानी यूपी टीईटी 2018 रविवार को प्रदेश के सभी जिलों में होगी. टीईटी के लिए इस बार रिकॉर्ड 17 लाख 83 हजार 716 अभ्यर्थी शामिल होंगे. सभी जिलों में परीक्षा दो पालियों में होगी. पहली पाली की प्राथमिक स्तर की परीक्षा में 11 लाख 70 हजार 786 अभ्यर्थी हैं वे 2070 केंद्रों पर इम्तिहान देंगे, जबकि दूसरी पाली में उच्च प्राथमिक स्तर के लिए छह लाख 12 हजार 930 अभ्यर्थी हैं वे 1051 केंद्रों पर परीक्षा देंगे. सबसे अधिक 94402 परीक्षार्थी प्रयागराज जिले में ही हैं, इसलिए सर्वाधिक 133 परीक्षा केन्द्र प्रयागराज में बने हैं.

7 साल बाद मिला बीएड वालों को भी मौका
आपको बता दें कि शिक्षक पात्रता परीक्षा के प्राथमिक स्तर के पेपर में सात साल के अंतराल के बाद बीएड डिग्रीधारी सम्मिलित होंगे. गौरतलब है कि अप्रैल 2010 में नि:शुल्क एवं अनिवार्य बाल शिक्षा अधिकार कानून लागू होने के बाद राष्ट्रीय अध्यापक शिक्षा परिषद (एनसीटीई) ने उत्तर प्रदेश सरकार को 2011 में प्राथमिक स्कूलों में हुई 72825 प्रशिक्षु शिक्षकों की भर्ती में आखिरी बार बीएड डिग्रीधारियों को शामिल करने की अनुमति दी थी. इस प्रकार 13 नवंबर 2011 को सूबे में पहली बार आयोजित टीईटी में बीएड डिग्रीधारियों को मौका मिला था. उसके बाद एनसीटीई की गाइडलाइन के अनुसार बीएड वालों को प्राथमिक स्कूलों में सहायक अध्यापक पद की भर्ती से बाहर कर दिया गया था. 72825 शिक्षक भर्ती के बाद प्राथमिक स्कूलों में आधा दर्जन से अधिक बार सहायक अध्यापकों की भर्ती हुई लेकिन बीएड डिग्रीधारकों को मौका नहीं मिला. सात साल के लंबे अंतराल के बाद 28 जून को एनसीटीई ने फिर से बीएड डिग्रीधारियों को प्राथमिक स्कूलों की भर्ती में शामिल कर लिया है.

की गई फुलप्रूफ व्यवस्था
परीक्षा में किसी भी तरह की गड़बड़ी न हो, इसके लिए फुलप्रूफ व्यवस्था की गई है. परीक्षा शुरू होने के 45 मिनट पहले ही परीक्षा केंद्र का गेट खोला जाएगा. अभ्यर्थियों को परीक्षा शुरू होने से 30 मिनट पहले पहुंचना अनिवार्य है. परीक्षा शुरू होने के 10 मिनट बाद परीक्षा केंद्र में घुसने की अनुमति नहीं दी जाएगी. परीक्षा केंद्रों के मुख्य गेट पर वीडियोग्राफी करने के निर्देश भी दिए गए हैं. इससे परीक्षार्थियों की चेकिंग व संदिग्ध अभ्यर्थियों की कड़ाई से निगरानी हो सकेगी. स्टैटिक या फिर सेक्टर मजिस्ट्रेट पुलिस स्कोर्ट की सुरक्षा में जिला कोषागार से लेकर परीक्षा केंद्रों पर प्रश्नपत्र पहुंचाएंगे. मजिस्ट्रेट के समक्ष प्रश्नपत्र खोलने की भी वीडियोग्राफी होगी. परीक्षा नियामक प्राधिकारी कार्यालय में परीक्षा के मद्देनजर कंट्रोल रूम भी खोला गया है. परीक्षा में लगे अफसर कर्मचारियों के साथ ही परीक्षार्थी भी कोई परेशानी होने पर कंट्रोल रूम के नंबर 0532-2466761 पर सूचना दे सकते हैं.

परीक्षा केन्द्र में प्रवेश के लिए जरूरी हैं ये दस्तावेज
इसके अलावा परीक्षा केंद्र पर अभ्यर्थी को प्रवेश पत्र के साथ अपने ऑनलाइन आवेदन में अंकित फोटो युक्त पहचान पत्र व प्रशिक्षण योग्यता का प्रमाण पत्र या किसी भी सेमेस्टर की मार्कशीट की मूल प्रति/संबंधित प्रशिक्षण संस्था के रजिस्ट्रार/सक्षम प्राधिकारी द्वारा इंटरनेट से प्राप्त मार्कशीट की प्रमाणित प्रति साथ लाना अनिवार्य है. इन दस्वाजों के बिना परीक्षा केन्द्र में प्रवेश की अनुमति नहीं दी जाएगी.

You Might Also Like