बसपा के समानांतर चलने के प्रयास में लगे चंद्रशेखर की भीम आर्मी को मायावती ने एक सिरे से खारिज कर दिया है

बसपा के समानांतर चलने के प्रयास में लगे चंद्रशेखर की भीम आर्मी को मायावती ने एक सिरे से खारिज कर दिया है

बहुजन समाज पार्टी की मुखिया मायावती ने बसपा के करीब आने के प्रयास में लगे भीम आर्मी को बसपा विरोधी बताया है। पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बसपा के समानांतर चलने के प्रयास में लगे चंद्रशेखर की भीम आर्मी को मायावती ने एक सिरे से खारिज कर दिया है। 

अयोध्या में हो रही धर्मसभा को लेकर बसपा प्रमुख मायावती ने भाजपा और शिवसेना पर निशाना साधा है।मायावती ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार अपनी नाकामी छुपाने के लिए ऐसा महौल तैयार कर रही है। सच तो यह है कि उनकी मंशा मंदिर बनवाने की मंशा है ही नहीं। केंद्र में सरकार के पांच वर्ष होने जा रहे हैं और चुनाव होने वाले हैं। भाजपा व नरेंद्र मोदी ने 2014 में अपने वादे का 50 प्रतिशत भी पूरा नहीं किया है। उन्हे लग रहा है कि वे सत्ता में वापसी नहीं करेंगे इसलिए सरकार ऐसा महौल बना रही है। मायावती ने कहा कि विफलताओं से ध्यान हटाने के लिए उन्होंने राम मंदिर मुद्दे उठाया है। अगर उनके इरादे अच्छे थे तो उन्हें पांच साल तक इंतजार करने की जरूरत नहीं थी। यह उनकी राजनीतिक रणनीति है और कुछ भी नहीं।

मायावती ने इसके साथ ही केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि साढ़े चार वर्ष में यह सरकार जनहित से जुड़े किसी भी काम को करने में नाकाम रही है। अब पीएम मोदी जगह-जगह जाकर सिर्फ चुनाव की तैयारी कर रहे हैं। सरकार की सभी विफलताओं से जनता का ध्यान हटाने के लिए अयोध्या में राममंदिर के मुद्दे को उठाया। मायावती ने कहा कि अगर उनके इरादे अच्छे थे तो उन्हें इस काम के लिए पांच वर्ष तक तक इंतजार करने की जरूरत नहीं थी। यह उनकी राजनीतिक रणनीति है और कुछ भी नहीं। शिवसेना व वीएचपी जैसे उनके सहयोगी जो कुछ भी कर रहे हैं वह उनकी षड्यंत्र का हिस्सा है।

बसपा मुखिया मायावती ने कहा कि केंद्र में भाजपा की सरकार के लगभग पांच वर्ष का कार्यकाल हो रहा है। अब तो लोकसभा चुनाव कुछ महीनों में आयोजित किए जाएंगे। भाजपा और विशेष रूप से नरेंद्र मोदी ने 2014 में किए गए अपने वादे का 50 प्रतिशत भी पूरा नहीं किया है। भाजपा के साथ इस बात की जानकारी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी है। उन्हें लगता है कि वह सत्ता में वापस नहीं होंगे।

भीम आर्मी जैसे संगठन बसपा विरोधी 

मुजफ्फरनगर के साथ ही बागपत व शामली में भीम आर्मी के कार्यक्रम में भीम आर्मी के प्रमुख चंद्रशेखर ने बसपा की मुखिया को प्रधानमंत्री के रूप में समर्थन देने की बात कही थी। इसी से खफा होकर मायावती ने आज लखनऊ में मीडिया से कहा कि भीम आर्मी जैसे संगठन बसपा विरोधी हैं। उत्तर प्रदेश में भीम आर्मी जैसे संगठन भोले भाले लोगों को काफी बहका रहे हैं। ऐसे तत्व तथा संगठन बसपा के बढ़ते मूमेंट पर बड़ा रोड़ा हैं। 

उन्होंने कहा कि बसपा के कार्यकर्ता तथा पदाधिकारी भीम आर्मी जैसे हमारे अन्य सभी विरोधियों से बेहद सावधान रहें। अब लोकसभा चुनाव बेहद करीब हैं, इसी कारण से भीम आर्मी जैसे कुछ और संगठन बसपा के करीब आने के प्रयास में लगे हैं, जिससे कि इनको बड़ा लाभ मिल सके। 

मायावती ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि हमारे भोले भले लोग न ही ऐसे संगठनो को चंदा देंगे और न ही इनके कार्यक्रमों में शामिल होंगे। उन्होंने कहा कि विरोधी पार्टी के जरिये भोले भाले लोगों को बहकाया जा रहा है। कुछ लोग व्यक्तिगत स्वार्थ के लिए ऐसे संगठन बन रहे हैं। बसपा सभी धर्मो और जातियों की पार्टी है। बसपा के बढ़ते मूमेंट पर ऐसे संगठन रोड़ा हैं। 

मायावती ने कहा कि बहुजन समाज पार्टी को पता चला है मिशन 201 9 के लिए भीम सेना(भीम आर्मी) और बहुजन युवा जैसे संगठन कहते फिर रहे हैं कि अगली पीएम बहन जी हैं। यह सभी लोग पर्दे के पीछे से हमारे विपक्ष के हाथों में खेल रहे हैं। इन विरोधी बीएसपी संगठनों को चलाने वाले लोग दलित कॉलोनियों में हमारी पार्टी के निर्दोष लोगों को बता रहे हैं कि बहनजी प्रधानमंत्री बनेंगी।

उन्होंने कहा कि ऐसे संगठन चलाने वाले लोग इसे अपने व्यवसाय चलाने और बढ़ाने के काम में लगे हैं। यह लोग जगह-जगह माहौल बना रहे हैं कि हमारी मदद से बहनजी प्रधानमंत्री बनेंगी। इतना ही नहीं, वे लोगों को यह भी बताते हैं कि उनके संगठन केवल बसपा और बहन जी को मजबूत करने के लिए काम कर रहे हैं। वे लोगों की भावनाओं के साथ खेल रहे हैं और इसका उपयोग करके धन इकट्ठा कर रहे हैं।

मायावती ने कहा कि यह संगठन न केवल अपने और विपक्षी स्वार्थी लोगों की जरूरतों को बसपा के नाम से पूरा कर रहे हैं, बल्कि हमारे निर्दोष लोगों को ऊपरी जाति के लोगों के खिलाफ भी उत्तेजित करते हैं और घृणा फैलते हैं। हमको इनके बहकावे में जरा भी नहीं आना है। 

You Might Also Like