केदारनाथ में शुरू हुआ शंकराचार्य समाधि के पुनर्निर्माण का कार्य

केदारनाथ में शुरू हुआ शंकराचार्य समाधि के पुनर्निर्माण का कार्य

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट में शामिल केदारनाथ स्थित आद्य शंकराचार्य की समाधि के पुनर्निर्माण को खुदाई का कार्य शुरू हो गया है। निर्माण कार्य पूरे शीतकाल जारी रहेगा और आगामी यात्रा सीजन से पूर्व शंकराचार्य की समाधि बनकर तैयार हो जाएगी। निर्माण का जिम्मा वुड स्टोन कंस्ट्रक्शन कंपनी को सौंपा गया है।

केदारपुरी में जिन पांच योजनाओं का शिलान्यास प्रधानमंत्री ने 20 अक्टूबर 2017 को केदारनाथ में किया था, उनमें शामिल आद्यगुरु शंकराचार्य की समाधि का कार्य बीते सप्ताह से शुरू कर दिया गया। गत सात नवंबर को प्रधानमंत्री के केदारनाथ दौरे के बाद से ही निर्माण को कवायद तेज हो गई थी और अब समाधि स्थल पर खुदाई भी शुरू कर दी गई है। समाधि स्थल की गहराई केदारनाथ मंदिर परिसर की गहराई के बराबर रखी जा रही है, ताकि यात्री आसानी से समाधि स्थल तक जा सकें। 

13 मीटर की गोलाई में बनेगी समाधि

पहले चरण में करीब 20 करोड़ की लागत से समाधि स्थल का निर्माण होगा। इस पर इंटीग्रेटेड आइडिया एजेंसी लिमिटेड के मॉडल के अनुसार कार्य किया जाएगा। समाधि तक जाने और लौटने का रास्ता अलग-अलग होगा। करीब 13 मीटर की गोलाई में बन रही समाधि के मध्य में आद्यगुरु शंकराचार्य की भव्य प्रतिमा स्थापित की जाएगी। प्रधानमंत्री ने सात नवंबर को समाधि निर्माण के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए थे। इसी बात को ध्यान में रखते हुए समाधि पर कार्य हो रहा है।

आपदा में जमींदोज हो गई थी समाधि

16 जून 2013 की आपदा के दौरान केदारनाथ मंदिर के पाश्र्व भाग में स्थित आद्यगुरु शंकराचार्य की समाधि भी जमींदोज हो गई थी। तब से लगातार समाधि की जीर्णोद्धार की बात चल रही थी। प्रधानमंत्री के केदारनाथ भ्रमण के बाद इसमें तेजी आई है।

जिलाधिकारी रुद्रप्रयाग मंगेश घिल्डियाल का कहना है कि केदारनाथ में समाधि स्थल की खुदाई शुरू कर दी गई है और माइनस डिग्री तापमान में भी इस पर काम किया जाएगा। आगामी यात्रा सीजन में यात्री समाधि के दर्शन कर सकेंगे।

You Might Also Like