महिला टी-20 वर्ल्ड कप विवाद

महिला टी-20 वर्ल्ड कप विवाद

 आईसीसी महिला टी-20 विश्व कप के सेमीफाइनल में अंतिम-11 खिलाड़ियों के चयन के मुद्दे पर भारतीय कप्तान हरमनप्रीत कौर और मिताली राज सोमवार (26 नवंबर) को टीम प्रबंधक त्रुप्ति भट्टाचार्य के साथ भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (BCCI) के सीईओ राहुल जौहरी से मिलीं. सूत्रों के अनुसार, दोनों खिलाड़ियों ने बीसीसीआई के अन्य अधिकारियों से भी मुलाकात की और सेमीफाइनल मुकाबले में अंतिम-11 खिलाड़ियों के चयन को लेकर हुए मामले में अपने विचार साझा किए. भारत को विश्व कप के सेमीफाइनल में इंग्लैंड के खिलाफ आठ विकेट से करारी हार झेलनी पड़ी थी. 

फॉर्म में चल रही अनुभवी बल्लेबाज मिताली राज को इंग्लैंड के खिलाफ अंतिम-11 में शामिल नहीं किया गया था. मैच के बाद हरमनप्रीत ने यह भी कहा कि उन्हें “कोई पछतावा” नहीं है. सूत्रों के अनुसार, खिलाड़ी बीसीसीआई के महाप्रबंधक (परिचालन) सबा करीम से मिले और ऐसा माना जा रहा है कि जौहरी एवं करीम इस मामले की रिपोर्ट प्रशासकों की समिति (सीओए) को सौपेंगे. 

इस बीच, भारतीय महिला क्रिकेट टीम के कोच रमेश पोवार के भी जौहरी और करीम से बात करने की उम्मीद है. पोवार टीम के अंतरिम कोच हैं और उनका अनुबंध 30 नवंबर को समाप्त होगा. चयन के मामले के बाद उनके अपने पद पर बने रहने की उम्मीद कम है. 

मिताली मामले पर गांगुली का तंज, बोले- पूर्व कप्तान के साथ ऐसा होता रहा है, मैं भी बाहर हो चुका हूं

विनोद राय हैं इस मामले से नाखुश

सीओए प्रमुख विनोद राय इस मामले से काफी नाखुश हैं कि खिलाड़ियों के एजेंट टीम चयन को लेकर गैरजरूरी टिप्पणी कर रहे हैं. विनोद राय ने इस मामले में कहा, ‘‘भारतीय महिला टीम के साथ जुड़े हुए दिख रहे लोगों की टिप्पणी को चिंता के साथ देखा गया है. मीडिया में इस तरह के बयान पूरी तरह से गैरजरूरी थे.’’

विनोद राय का बयान अनीषा गुप्ता नाम की महिला के ट्वीट के संदर्भ में था जिन्होंने दावा किया है कि वे फ्रीलांस पत्रकार हैं और मिताली के लिए विज्ञापन लाती हैं. बाद के डिलीट कर दिए गए ट्वीट में अनीषा ने हरमनप्रीत को ‘धोखेबाज, झूठा और अयोग्य’ करार दिया था.

एल्डुजी बोलीं सवाल नहीं उठा सकते

वहीं, सीओए सदस्य डायना एडुल्जी का कहना है कि सीनियर खिलाड़ी मिताली राज को महिला टी20 विश्व कप सेमीफाइनल से बाहर रखने के विवादित फैसले पर सवाल नहीं उठाए जा सकते और ग्रुप चरण में अजेय रहने वाली भारतीय टीम के लिए वह खराब दिन था. भारत की पूर्व कप्तान एडुल्जी ने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि तिल का ताड़ बनाया जा रहा है. टीम प्रबंधन (कप्तान हरमनप्रीत कौर, कोच रमेश पोवार, उपकप्तान स्मृति मंधाना और चयनकर्ता सुधा शाह) ने विजयी संयोजन को नहीं छेड़ने का फैसला लिया जो गलत साबित हुआ. भारत जीत जाता तो इस पर कोई सवाल नहीं उठता.’’

You Might Also Like