अयोध्या में राम मंदिर मुद्दे पर संसद में रामध्वज थामेंगे मनोज तिवारी, किया बड़ा एलान

अयोध्या में राम मंदिर मुद्दे पर संसद में रामध्वज थामेंगे मनोज तिवारी, किया बड़ा एलान

अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के लिए राज्यसभा सदस्य राकेश सिन्हा के बाद अब दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष व लोकसभा सांसद मनोज तिवारी भी संसद में रामध्वज थामेंगे। उन्होंने जरूरत पड़ने पर संसद में निजी बिल लाने तक का एलान किया है। उनका मानना है कि मंदिर निर्माण को लेकर सुप्रीम कोर्ट (SC) से मिली निराशा के बाद राम भक्तों के सब्र का बांध टूटने लगा है, इसलिए जन भावनाओं का ख्याल करते हुए संसद को कानून बनाकर मंदिर निर्माण का मार्ग प्रशस्त करना चाहिए।

बता दें कि 9 दिसंबर को दिल्ली के रामलीला मैदान में विश्व हिंदू परिषद (VHP) राम मंदिर निर्माण को लेकर धर्म संसद करने जा रही है। इसमें देशभर से लाखों रामभक्त पहुंचने की उम्मीद है। विहिप मंदिर निर्माण के लिए कानून बनाने का मांग कर रही है। उसकी इस मुहिम को बड़ा समर्थन मिला है।

गौरतलब है कि विहिप नेताओं के प्रतिनिधिमंडल ने मंगलवार को प्रांत मंत्री बचन सिंह के नेतृत्व में उनसे मिलकर मंदिर निर्माण के लिए समर्थन मांगा था। अब मनोज तिवारी ने राम मंदिर मामले को पार्टी और संसद दोनों स्थानों पर उठाने का आश्वासन दिया है। इसके पहले भाजपा के राज्यसभा सदस्य राकेश सिन्हा ने 11 दिसंबर से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र में राम मंदिर निर्माण को लेकर निजी बिल लाने का एलान किया है।

वहीं, मनोज तिवारी ने जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला के उस बयान की निंदा की है, जिसमें उन्होंने कहा है कि राम पूरे विश्व के हैं तो मंदिर अयोध्या में ही क्यों जरूरी है? इस पर मनोज तिवारी ने कहा कि इस तरह का बयान जन भावनाओं को आहत करने वाला है। अयोध्या भगवान राम की जन्म भूमि है, इसलिए वहां मंदिर का निर्माण जरूरी है।

मनोज तिवारी (दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष) ने कहा कि संसद के रास्ते यदि मंदिर निर्माण की बात बनती है तो मैं इसके लिए हरसंभव प्रयास करूंगा। पार्टी और संसद दोनों जगह इस मामले को प्रभावी ढंग से उठाकर कानून बनाने की मांग करेंगे। जरूरत पड़ी तो निजी बिल लाने में भी सबसे आगे रहूंगा।
 
उधर, बचन सिंह (विहिप के दिल्ली प्रांत मंत्री) ने कहा कि सांसद हिंदू जनभावना के अनुरूप अयोध्या में राम जन्म भूमि पर भव्य मंदिर निर्माण के लिए संसद में कानून बनाकर मार्ग प्रशस्त करें। इसके लिए विहिप दिल्ली के सभी सांसदों को ज्ञापन दे रहा है। राम मंदिर का चुनाव से कोई संबंध नहीं है बल्कि यह करोड़ों हिंदुओं की आस्था से जुड़ा विषय है।

वहीं, वीएचपी नेताओं से मुलाकात के बाद मनोज तिवारी ने यह भी कहा कि बड़ी विडंबना है कि ये मामला 68 सालों से कोर्ट में लंबित है और भगवान राम टेंट में हैं। मनोज तिवारी ने कहा कि राम मंदिर की मांग तो दशकों से की जा रही है। उत्तर पूर्व दिल्ली से सांसद मनोज तिवारी ने कहा कि वो राम मंदिर के मुद्दे को संसद से लेकर पार्टी के फोरम पर भी इसे उठाएंगे ताकि अब इस काम में और विलंब न हो। 

AAP सरकार सभी मोर्चों पर विफल

दिल्ली प्रदेश भाजपा की मासिक बैठक में दिल्ली सरकार की नीतियों की आलोचना की गई। सरकार को सभी मोर्चो पर विफल बताते हुए दिल्ली प्रदेश भाजपा अध्यक्ष मनोज तिवारी ने कहा कि भाजपा दिल्ली को आम आदमी पार्टी (आप) के कुशासन से मुक्ति दिलाएगी। उन्होंने आरोप लगाया कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल के इशारे पर दुबई से उन्हें जान से मारने की धमकी दी जा रही है। पानी के लिए जान जा रही है, स्वास्थ्य सेवाएं बदहाल हैं, इन मुद्दों पर विधानसभा का विशेष सत्र नहीं बुलाया गया। वहीं सीएम पर मिर्च पाउडर के फर्जी हमले पर विशेष सत्र बुला लिया गया। केंद्रीय राज्य मंत्री विजय गोयल ने कहा कि सीलिंग के विरोध में प्रदेश अध्यक्ष के कदम से जनता में यह संदेश गया है कि भाजपा उनकी लड़ाई लड़ने को तैयार है।

You Might Also Like