कश्मीर में 428 व जम्मू में 464 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील की श्रेणी में रखा गया है

कश्मीर में 428 व जम्मू में 464 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील की श्रेणी में रखा गया है

राज्य में जारी पंचायत चुनाव का सातवां चरण भी शांतिपूर्वक संपन्न हो गया। आतंकवादियों की चेतावनी, अलगाववादियों के कश्मीर बंद के आह्वान के बीच कश्मीर संभाग में लोगों ने मतदान प्रक्रिया में बढ़-चढ़कर भाग लिया। पिछले छह चरणों की तरह जम्मू संभाग में चुनाव प्रतिशत रिकार्ड तोड़ रहा। चुनाव आयोग से प्राप्त जानकारी के अनुसार कश्मीर में जहां चुनाव प्रतिशत तीस प्रतिशत तक रहने की संभावना है वहीं जम्मू संभाग में मतदान 80 प्रतिशत रहने की संभावना है। चुनाव के सही आंकड़े चुनाव आयोग दोपहर तीन बजे के बाद ही जारी करेगा।
आतंकवादी धमकियों और अलगाववादियों के कश्मीर बंद के चलते घाटी में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए थे। सुबह आठ बजे जैसे ही मतदान केंद्रों में मतदान की प्रक्रिया शुरू हुई। इक्का-दुक्का लोग ही केंद्रों पर वोट डालने के लिए पहुंच रहे थे। परंतु दोपहर बाद लोगों की संख्या में बढ़ोतरी हुई। कश्मीर में सबसे कम मतदान बडगाम में हुआ है जबकि सबसे अधिक कुपवाड़ा में। वहीं जम्मू की बात करें तो यहां दूरदराज व पहाड़ी इलाकों में पहले दो घंटों में मतदान प्रतिशत 12 से 20 के करीब थे परंतु दोपहर बजे तक कई जिलों में यह संख्या 80 प्रतिशत तक पहुंच गई। पुरुषों के मुकाबले महिलाओं ने मतदान प्रक्रिया में अधिक हिस्सा लिया। 
पुंछ जिला के मेंढर स्थित गुरसाई तामी मतदान केन्द्र पर जाली मतदान करने को लेकर जो दो गुटों के बीच हुए पथराव के बाद मतदान केन्द्र पर मतदान की प्रक्रिया को रोेक दिया गया था। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी सूचना मिलते ही मतदान केंद्र पर पहुंच गए। यहां कुछ लोगों ने मतदान केंद्र पर कब्जा करने का प्रयास किया था। मतदान प्रक्रिया बाधित होने के बाद यहां मतदान रोक दिया गया है। बात इतनी बढ़ गई थी कि पुलिस और सुरक्षाबलों काे भीड़ पर काबू पाने के लिए आंसू गैस का प्रयोग भी करना पड़ा। यहां मतदान अगले चरण में फिर से करवाने की संभावना है। हालांकि इसकी घोषणा प्रशासन की ओर से बाद में की जाएगी।
सातवें चरण में राज्य के तीस ब्लाकों के 545 सरपंच और 4345 पंच हल्कों में 5575 उम्मीदवार अपना भाग्य आजमा रहे थे। इनमें 1229 सरपंच जबकि 4346 पंच के लिए चुनाव लड़ रहे थे। 15 जिलों में हुए इन चुनावों में 2714 मतदान केंद्र बनाए गए थे। जिनमें 576 कश्मीर और 2138 जम्मू संभाग में थे।कश्मीर के 201 सरपंच हल्कों में मतदान नहीं हुआ। यहां 85 सरपंच निर्विरोध चुने जा चुके हैं जबकि 116 में एक ही उम्मीदवार चुनावी मैदान में नहीं उतरा। जम्मू संभाग में इस चरण में मात्र तीन सरपंच ही निर्विरोध चुने गए हैं। कश्मीर में 428 व जम्मू में 464 मतदान केंद्रों को अति संवेदनशील की श्रेणी में रखा गया था। यहां ऐसे मतदान को सुरक्षित और शांत वातावरण में संपन्न कराने के लिए सुरक्षा के कड़े प्रबंध किए थे। जम्मू व कश्मीर में बनाए गए मतदान केंद्रों के बाहर सेना, पुलिस और केंद्रीय अर्धसैनिकबलों की तैनाती की गई थी।

जिला रियासी के तीन ब्लाक में अभी तक 61.37 प्रतिशत हुआ मतदान

जिला रियासी के ब्लाक चसाना में अभी तक 61.37 प्रतिशत मतदान हुआ है। इसी जिले के गुलाबगढ़ ब्लाक में 51 प्रतिशत जबकि माहौर में 62 प्रतिशत मतदान हो चुका है। चसाना में 64.19 प्रतिशत मतदान हुआ है।

कश्मीर संभाग के 8 जिलों में अभी तक 26 प्रतिशत हुआ मतदान

कश्मीर संभाग के आठ जिलों के कुल 12 ब्लाकों में दोपहर एक बजे तक 26 प्रतिशत मतदान हुआ है। गांदरबल के एक ब्लाक में कुल 884 मतदाताओं में से अभी तक 208 मतदाता सहित 23.5 प्रतिशत मतदान हुआ है। इसी तरह बड़गाम के दो ब्लाक में कुल 14794 मतदाताओं में से 1510 मतदाताओं सहित 10.2 प्रतिशत, अनंतनाग के तीन ब्लाक में कुल 14917 मतदाताओं में से 2351 मतदाताओं सहित 15.8 प्रतिशत, बारामूला के एक ब्लाक में 1360 मतदाताओं में से 230 मतदाताओं सहित 16.9 प्रतिशत, कुपवाड़ा के दो ब्लाक में कुल 30229 मतदाताओं में से 14300 मतदाताओं सहित 47.3 प्रतिशत, हंदवाड़ा के एक ब्लाक में कुल 12101 मतदाताओं में से 1634 मतदाताओं सहित 13.5 प्रतिशत, बांडीपोरा के एक ब्लाक में कुल 2915 मतदाताओं में से 613 मतदाताओं सहित 21 प्रतिशत जबकि सोपोर के एक ब्लाक में कुल 6283 मतदाताओं में से 885 मतदाताओं सहित 14.1 प्रतिशत अपने मताधिकार का प्रयोग कर चुके हैं। इन 12 ब्लाकों में कुल मतदाताओं की संख्या 83483 है। इनमें से अभी तक 21731 मतदाता वोट डाल चुके हैं।

राजौरी के तीन ब्लाक में 75.21 प्रतिशत मतदान हुआ

राजौरी जिला के तीन ब्लाक में अभी तक 75.21 प्रतिशत मतदान हो चुका है। कुल 77615 मतदाताओं में से अभी तक 58371 मतदाताओं ने अपने मताधिकार का प्रयोग कर लिया है। बुद्धल में कुल 43455 मतदाताओं में से 33265 सहित 76.55 प्रतिशत, राजनगर में कुल 14548 मतदाताओं में से 11250 मतदाताओं सहित 77.33 प्रतिशत और ख्वास में कुल 19612 मतदाताओं में से 13856 मतदाताओं सहित 70.65 प्रतिशत मतदान हुआ है। 
इसी बीच जिला पुंछ के मेंढर ब्लाक में 77.89 प्रतिशत मतदान हो चुका है।

You Might Also Like