कच्छ के बाद जामनगर में वायुसेना का ‘जगुआर’ एयरक्राफ्ट क्रैश; पायलट सुरक्षित

कच्छ के बाद जामनगर में वायुसेना का ‘जगुआर’ एयरक्राफ्ट क्रैश; पायलट सुरक्षित

गुजरात के कच्छ में वायुसेना विमान दुर्घटना के दो दिन बाद जगुआर फाइटर एयरक्राफ्ट में गड़बड़ी का एक और मामला सामने आया है। कच्छ के बाद जामनगर में भी रूटीन ट्रेनिंग के दौरान जगुआर विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया, हालांकि पायलट की सूझबूझ से उसकी जान बच गई।गुजरात के कच्छ में वायुसेना विमान दुर्घटना के दो दिन बाद जगुआर फाइटर एयरक्राफ्ट में गड़बड़ी का एक और मामला सामने आया है। कच्छ के बाद जामनगर में भी रूटीन ट्रेनिंग के दौरान जगुआर विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया, हालांकि पायलट की सूझबूझ से उसकी जान बच गई।  लैंडिंग के दौरान हादसा  घटना आज सुबह करीब 9 बजकर 20 मिनट पर घटी। बताया जा रहा है कि लैंडिंग के दौरान तकनीकी खराबी के चलते विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। विमान चला रहे पायलट को शायद इसका पहले ही अनुमान हो गया था, इसलिए वक्त रहते उसने विमान से बाहर (इजेक्ट) निकल गया। इस कारण उसकी जान बच गई। फिलहाल हादसे के जांच के आदेश दे दिए गए हैं।  बता दें कि आज से दो दिन पहले यानी पांच जून को भी वायुसेना के जगुआर फाइटर एयरक्राफ्ट दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। ये हादसा कच्छ में रूटीन ट्रेनिंग के दौरान घटा, जिसमें पायलट संजय चौहान शहीद हो गए। संजय चौहान वायुसेना में एयर कमोडोर के पद पर थे। बताया जा रहा है कि जगुआर फाइटर एयरक्राफ्ट ने जामनगर से उड़ान भरी थी, तभी अचानक क्रैश हो गया। इस मामले की भी जांच चल रही है।  जगुआर विमान खासियत  - जगुआर काफी खास किस्म का लड़ाकू विमान है।  - यह दुश्मन की सीमा में अंदर घुसकर दुश्मनों पर हमला कर सकता है।  - जगुआर फाइटर एयरक्राफ्ट की मदद से आसानी से दुश्मन के कैंप, एयरबेस और वॉरशिप्स को निशाना बनाया जा सकता है।

लैंडिंग के दौरान हादसा

घटना आज सुबह करीब 9 बजकर 20 मिनट पर घटी। बताया जा रहा है कि लैंडिंग के दौरान तकनीकी खराबी के चलते विमान दुर्घटनाग्रस्त हो गया। विमान चला रहे पायलट को शायद इसका पहले ही अनुमान हो गया था, इसलिए वक्त रहते उसने विमान से बाहर (इजेक्ट) निकल गया। इस कारण उसकी जान बच गई। फिलहाल हादसे के जांच के आदेश दे दिए गए हैं।

 

बता दें कि आज से दो दिन पहले यानी पांच जून को भी वायुसेना के जगुआर फाइटर एयरक्राफ्ट दुर्घटनाग्रस्त हो गया था। ये हादसा कच्छ में रूटीन ट्रेनिंग के दौरान घटा, जिसमें पायलट संजय चौहान शहीद हो गए। संजय चौहान वायुसेना में एयर कमोडोर के पद पर थे। बताया जा रहा है कि जगुआर फाइटर एयरक्राफ्ट ने जामनगर से उड़ान भरी थी, तभी अचानक क्रैश हो गया। इस मामले की भी जांच चल रही है।

 

जगुआर विमान खासियत

– जगुआर काफी खास किस्म का लड़ाकू विमान है।

– यह दुश्मन की सीमा में अंदर घुसकर दुश्मनों पर हमला कर सकता है।

– जगुआर फाइटर एयरक्राफ्ट की मदद से आसानी से दुश्मन के कैंप, एयरबेस और वॉरशिप्स को निशाना बनाया जा सकता है।

You Might Also Like