एलपीजी की घटतौली से रोजाना ढाई लाख का खेल, जानिए कैसे हो रहा गोलमाल

एलपीजी की घटतौली से रोजाना ढाई लाख का खेल, जानिए कैसे हो रहा गोलमाल

रसोई गैस सिलेंडर में घटतौली का बड़ा खेल चल रहा है। कांटे में गड़बड़ी कर उपभोक्ताओं की जेब पर चूना लगाया जा रहा है। होम डिलीवरी देते समय उपभोक्ता के सामने सिलेंडर का वजन करने का नाटक किया जाता है। शहर के कुछ जागरुक उपभोक्ताओं ने एलपीजी सिलेंडर की होम डिलीवरी देने वाले वितरकों की कारगुजारी का भंडाफोड़ किया है। घटतौली के काले कारोबार से हल्द्वानी में रोजाना ढाई लाख रुपये का खेल किया जा रहा है। उपभोक्ताओं की सजगता के बाद वितरक सजग उपभोक्ता को सिलेंडर देने से कतरा रहे हैं। दैनिक जागरण ने सोमवार को इस प्रकरण की पड़ताल की तो चौंकाने वाली बात सामने आई। कारगुजारी बयां करती पड़ताल पर आधारित रिपोर्ट।

यह होता है सिलेंडर का वास्तविक वजन

रसोई गैस सिलेंडर में घटतौली का बड़ा खेल चल रहा है। कांटे में गड़बड़ी कर उपभोक्ताओं की जेब पर चूना लगाया जा रहा है। होम डिलीवरी देते समय उपभोक्ता के सामने सिलेंडर का वजन करने का नाटक किया जाता है। शहर के कुछ जागरुक उपभोक्ताओं ने एलपीजी सिलेंडर की होम डिलीवरी देने वाले वितरकों की कारगुजारी का भंडाफोड़ किया है। घटतौली के काले कारोबार से हल्द्वानी में रोजाना ढाई लाख रुपये का खेल किया जा रहा है। उपभोक्ताओं की सजगता के बाद वितरक सजग उपभोक्ता को सिलेंडर देने से कतरा रहे हैं। दैनिक जागरण ने सोमवार को इस प्रकरण की पड़ताल की तो चौंकाने वाली बात सामने आई। कारगुजारी बयां करती पड़ताल पर आधारित रिपोर्ट।

यह होता है सिलेंडर का वास्तविक वजन

घरेलू सिलेंडर में 14 किलो 200 ग्राम गैस होती है व खाली सिलेंडर का वजन 15 किलो, 15 किलो 600 ग्राम, 15 किलो 700 ग्राम, 15 किलो 900 ग्राम। खाली और भरे सिलेंडर का वजन सिलेंडर के ऊपरी हिस्से में अंकित रहता है। डिलीवरी से पहले इसे देखना चाहिए।

तौल पर चार किलो कम निकला गैस

तनुज गुप्ता, मंगलपड़ाव ने बताया कि हमारे पास इंडेन का कनेक्शन है। कुछ समय पहले हमने इलेक्ट्रॉनिक कांटा मंगाया। सिलेंडर लेते समय पहले तो वितरक ने दूसरे कांटे पर वजन करने से मना कर दिया। जोर देने पर वजन किया तो सिलेंडर 4 किलो कम निकला। इसके बाद से सिलेंडर की डिलीवरी देने के लिए बहाने करने लगे हैं।

मंगाया है इलेक्‍ट्रॉनिक कांटा

भारत भूषण, कारखाना बाजार ने बताया कि सोशल मीडिया में चली एक वीडियो देखने के बाद मैंने इलेक्ट्रॉनिक कांटा लगाया। पिछले दो बार इंडेन का सिलेंडर लेने पर वजन कम निकला। जबकि वितरक के कांटे में वजन पूरा निकला। जब से तौल करना शुरू किया है, तब से डिलीवरी ब्वॉय आज-कल आने की बात कहकर टाल देते हैं।

जल्‍द खत्‍म हो जा रहा गैस

सौरभ गुप्ता, साहुकारा लाइन ने बताया कि हम इंडेन के उपभोक्ता हैं। सिलेंडर जल्दी खत्म हो जा रहा था। इसलिए ऑनलाइन इलेक्ट्रॉनिक कांटा मंगाया। डिलीवरी के समय सिलेंडर पूरे वजन का मिला, बाद में इलेक्ट्रानिक कांटे से तौला तो वजन साढ़े तीन किलो कम था। अब ठेकेदार के आदमी डिलीवरी देने के लिए बहाना बनाते हैं।

ऐसे समझें अवैध कारोबार का गणित

25 हजार ग्राहक संख्या वाली हल्द्वानी इंडेन गैस एजेंसी रोजाना 700 सिलेंडर की सेल करती है। काठगोदाम इंडेन, इंडेन की दो निजी एजेंसी व एचपी के ग्राहकों को लगाकर 1800 से दो हजार सिलेंडर की प्रतिदिन सेल होती है। प्रति सिलेंडर औसतन तीन किलो घटतौली होने पर एक सिलेंडर में 130 रुपये (14 किलो वजनी सिलेंडर की कीमत 600 रुपये मानने पर) का खेल होता है। दो हजार सिलेंडर में आंकड़ा ढाई लाख से ऊपर पहुंचता है।

डिलेवरी लेने से पहले करें वजन

रवि मेहरा, प्रबंधक इंडेन गैस एजेंसी हल्द्वानी ने बताया कि हुक वाले कांटे पहले चलते थे। हमने सभी वाहनों में इलेक्ट्रॉनिक कांटे उपलब्ध कराए हैं। डिलीवरी लेने से पहले उपभोक्ता इलेक्ट्रॉनिक कांटे से वजन कराएं। किसी तरह की लापरवाही की फोन नंबर 05946-254383 पर तत्काल शिकायत करें।

You Might Also Like