इस उम्र में कितने आत्मविश्वास से भरा है ऑस्ट्रेलिया का नया सह कप्तान

इस उम्र में कितने आत्मविश्वास से भरा है ऑस्ट्रेलिया का नया सह कप्तान

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच चल रही टेस्ट सीरीज के दौरान मेलबर्न टेस्ट से पहले ऑस्ट्रेलिया ने मानवता की एक अनोखी मिसाल पेश की है. ऑस्ट्रेलिया ने क्रिकेट के दीवाने सात साल के आर्ची शिलर को टीम इंडिया के खिलाफ मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड में होने वाले बाक्सिंग डे टेस्ट मैच के लिये अपनी 15 सदस्यीय टीम में शामिल करके क्रिसमस से पहले प्रशंसनीय कदम उठाया.

आर्ची दिल से जुड़ी बीमारी से पीड़ित हैं. उनका सपना ऑस्ट्रेलिया का कप्तान बनना है और यह पुष्टि कर दी गयी है कि 26 दिसंबर से शुरू होने वाले तीसरे टेस्ट मैच में वे टिम पेन के साथ सह-कप्तान होंगे. यह सब ‘मेक ए विश ऑस्ट्रेलिया फाउंडेशन’ के कारण संभव हो पाया. क्रिकेट.काम.एयू के अनुसार यारा पार्क में ‘बूपा फेमिली डे’ के अवसर रविवार को यह घोषणा की गई.

आर्ची ऑस्ट्रेलियाई टीम के साथ अभ्यास भी करते दिखाई दिए. कप्तान टिम पेन ने आर्ची के आने पर खुशी जताते हुए कहा कि अब उन्हें जो भी मदद की चाहिए होगी, उन्हें मिल जाएगी. इस दौरान आर्ची काफी आत्मविश्वास से भरे नजर आए.

जन्मदिन पर दी गई थी आर्ची को इस बात की जानकारी

एडिलेड के लेग स्पिनर आर्ची के लिए शनिवार को सातवां जन्मदिन यादगार बन गया क्योंकि पेन ने उसी दिन उन्हें जानकारी दे दी थी. ऑस्ट्रेलिया की टीम में आर्ची के रूप में अतिरिक्त सदस्य रखने को इस महीने के शुरू में सार्वजनिक किया गया था और तब उन्हें यह जानकारी कोच जस्टिन लैंगर ने फोन पर दी थी. तब यह तय नहीं था कि उन्हें किस मैच में टीम में लिया जाएगा.

आर्ची के दिल के वाल्व में है समस्या

इस युवा लेग स्पिनर ने इस महीने के शुरू में एडिलेड ओवल में ऑस्ट्रेलिया टीम के साथ नेट अभ्यास भी किया था. जब आर्ची केवल तीन महीने का था तब पता चला था कि उनके दिल के वॉल्व सही नहीं हैं. अपने जन्म के कुछ सप्ताह बाद ही उन्हें मेलबर्न में सात घंटे से भी अधिक समय तक आपरेशन से गुजरना पड़ा था. और छह महीने बाद उनका एक और आपरेशन किया गया. पिछले साल दिसंबर में भी उन्हें आपरेशन की प्रक्रिया से गुजरना पड़ा था.

पिता से कहा था, कप्तान बनना चाहता हूं

पेन ने कहा कि आर्ची को कप्तान बनाने का फैसला उसके सपने को पूरा करना है. उन्होंने कहा, ‘‘निश्चित तौर पर आर्ची और उनके परिवार को मुश्किल दौर से गुजरना पड़ा है. जब उसके पिता ने उससे पूछा कि तुम क्या बनना चाहते हो तो उसने कहा कि ‘मैं ऑस्ट्रेलिया का कप्तान बनना चाहता हूं.’

You Might Also Like