सीरिया में अमेरिका के इस फैसले से खुश है तुर्की, ट्रंप को दिया देश आने का न्योता

तुर्की के राष्ट्रपति रजब तैयब एर्दोआन ने अपने अमेरिकी समकक्ष डोनाल्ड ट्रम्पको आगामी साल 2019 में तुर्की आने का निमंत्रण दिया है. व्हाइट हाउस के एक प्रवक्ता ने तुर्की की ओर से दिए गए आमंत्रण कि जानकारी देते हुए बताया, ‘‘राष्ट्रपति एर्दोआन ने राष्ट्रपति ट्रम्प को 2019 में तुर्की आने का निमंत्रण दिया है. हालांकि अभी कुछ भी तय नहीं हुआ है, राष्ट्रपति भविष्य में ऐसी संभावित बैठक कर सकते हैं.’’ 

सीरिया मामले के बाद आया न्योता
अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प के सीरिया से अमेरिकी सैनिक वापस बुलाने के विवादस्पद निर्णय के कुछ दिन बाद यह निमंत्रण आया है. आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के खिलाफ अंतरराष्ट्रीय युद्ध में सहायता के लिए अमेरिकी सैनिक सीरिया में तैनात थी. अमेरिका ने कहा था कि इस्लामिक स्टेट (आईएस) की हार हो चुकी है, उसका यह दावा सहयोगियों और अमेरिकी राजनेताओं की नजर में विवादों के घेरे में है.

पेंटागन ने की थी अमेरिका के कदम की पुष्टि
अमेरिका के इस कदम के बाद पेंटागन ने कहा था कि सीरिया में आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट के खिलाफ युद्ध में सहायता के लिए तैनात अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने के आदेश पर हस्ताक्षर हो चुके हैं. अमेरिकी सेना के एक प्रवक्ता ने कहा था, ‘‘सीरिया से वापसी (सैनिकों की) के आदेश पर हस्ताक्षर हो चुके हैं.’’राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने अचानक से अमेरिकी सैनिकों को वापस बुलाने का निर्णय करते हुए हाल में कहा था कि जिहादी समूहों को व्यापक तौर पर शिकस्त दे दी गई है. अमेरिका के अनेक नेताओं और अंतरराष्ट्रीय सहयोगियों को लगता है कि यह कदम उठाने में जल्दबाजी की गई है तथा इससे पहले से ही सकंटग्रस्त क्षेत्र और भी अस्थिर हो सकता है.

तुर्की और अमेरिका एक साथ!
तुर्की दुर्लभ ही ट्रम्प के सीरिया पर लिए किसी निर्णय का समर्थन करता है, लेकिन सैनिक वापसी के मुद्दे पर उसने अपनी सहमति जतायी है, जबकि विश्वभर में कई नेता इस निर्णय की आलोचना कर रहे हैं.

Related Articles

Live TV
Close