लालू के लाल तेजप्रताप की राबड़ी से मुलाकात,

लालू के लाल तेजप्रताप की राबड़ी से मुलाकात,

 यह बिहार की राजनीति में किसी बड़ी खबर का संकेत हो सकता है। नए साल के पहले दिन राष्‍ट्रीय जनता दल (राजद) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव अपनी मां राबड़ी देवी से मिलने तजस्‍वी यादव के आवास पर पहुंचे। वहां मां राबड़ी देवी भी पहुंचीं। दोनों की बंद कमरे में बात हुई। इसके बाद तेजप्रताप ने कहा कि मां हमेशा उनके समर्थन में रहीं हैं। बेटे से मिलने के बाद भावुक हो गईं राबड़ी देवी ने भी कहा कि मां सभी बाल-बच्‍चों के साथ है।

पैर छूकर मां का आशीर्वाद लिया

दरअसल मंगलवार को राबड़ी देवी का जन्म दिन है। सो तेजप्रताप ने अपनी मां को फोन किया। फोन करने के तुरंत बाद मां राबड़ी देवी तेजस्वी के आवास पर पहुंच गयीं। वहीं फोन करने के बाद तेजप्रताप भी वहां पहुंच गए। उन्होंने पैर छूकर मां का आशीर्वाद लिया। नजरें मिलीं, तो दोनों भावुक हो गए। बाद में वहां से निकले तो अपने समर्थकों के आग्रह पर बांसुरी भी बजाई। इतना ही नहीं, वे अपने समर्थकों के साथ गांधी मैदान भी गए और बापू की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

तेजप्रताप ने मुलाकात के बाद कही ये बात

मुलाकात के बाद तेजप्रताप यादव ने कहा कि मां राबड़ी देवी उनके साथ हैं। मां उनकी हर जिद पूरी करती रहीं हैं। तेजस्‍वी से संबंध में कहा कि उनका भाईसे कोई विवाद नहीं है। कहा कि वे तेजस्‍वी को आज ही मुख्‍यमंत्री घोषित करते हैं। पत्‍नी ऎश्वर्या से तलाक मामले पर कहा कि देानों के बीच अब कोई रिश्‍ता नहीं है। वे आगामी आठ तारीख को तलाक की सुनवाई के दौरान कोर्ट में अपना पक्ष रखेंगे।

भावुक राबड़ी बोलीं: मां सभी बाल-बच्‍चों के साथ

मुलाकात के बाद राबड़ी देवी भावुक हो गईं। बताया कि तेजप्रताप यादव ने उन्‍हें नए साल की बधाई दी। राबड़ी ने कहा कि मां तो मां होती है। मां सभी बाल-बच्‍चों के साथ है। एश्‍वर्या को नववर्ष की बधाई देने के साल को वे टालतीं नजर आईं। राबड़ी ने देश-प्रदेश वासियों को नए साल की बधाई देते हुए इस साल केंद्र से नरेंद्र मोदी की सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान किया। 

तलाक के मुकदमे के बाद मां से पहली मुलाकात

नए साल के पहले दिन लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव अपने छोटे भाई व बिहार विधान सभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव के आवास (5, देशरत्‍न मार्ग) पर पहुंचे। इसके बाद मां राबड़ी देवी भी पहुंच गईं। वहां दोनों की तलाक के मुकदमे के बाद पहली बार मुलाकात हुई।

तलाक मुद्दे पर नहीं मिल रहा परिवार का साथ 

विदित हो कि पत्‍नी एश्‍वर्या राय से तलाके के मुद्दे पर तेजप्रताप को परिवार का साथ नहीं मिल रहा है। इससे नाराज होकर वे घर से अलग रह रहे हैं। तेजप्रताप चाहते हैं कि परिवार के लोग उन्‍हें उनके तलाक के मामले में साथ दें।

पटना में घर से दूर रह रहे तेजप्रताप 

परिवार से नाराज होकर तेजप्रताप पहले काशी-वृंदावन गए, फिर तलाक की अर्जीपर सुनवाई के लिए पटना पहुंचे तो भी घर नहीं गए। फिर, एक रात अचानक घर से सामान लेकर निकल गए। इसके बाद से वे अलग रह रहे हैं। उन्‍होंने राज्‍य सरकार से अपने लिए अलग बंगला भी ले लिया है, जिसमें खरमास बाद शिफ्ट करने का प्‍लान है।

बढ़ाई राजनीतिक सक्रियता 
इस बीच उन्‍होंने अपनी राजनीतिक सक्रियता भी बढ़ा दी है। वे पार्टी कार्यालय में लगातार जनता दरबार लगा रहे हैं।

दूरियां कम होने की उम्‍मीद

परिवार से बढ़ी दूरियों के बीच तेजप्रताप की मां व भाई से इस मुलाकात को अहम माना जा रहा है। तेजप्रताप यादव की इस मुलाकात के बाद परिवार से उनकी दूरियां कम होने की उम्‍मीद है। हालांकि,तेजप्रताप ने साफ किया है कि वे घर लौटने नहीं जा रहे।

मां ने की समझाने की कोशिश 

बताया जा रहा है कि राबड़ी देवी ने इस मुलाकात में तेजप्रताप यादव को समझाने की कोशिश की। तेजप्रताप यादव पत्‍नी एश्‍वर्या राय से तलाक लेने की जिद पर अड़े हैं। कहा जा रहा है कि यह बातचीत का अहम मुद्दा रहा। साथ ही इधर तेजप्रताप की राजनीतिक सक्रियता तथा उनके पक्ष में लालू परिवार से अलग-थलग पड़े दोनों मामा साधु यादव व सुभाष यादव के उनके पक्ष में खड़े होने पर भी बातचीत हुई।

You Might Also Like