बिहार में सवर्ण आरक्षण मामले को लेकर महागठबंधन में बढ़ सकता है मतभेद

बिहार में सवर्ण आरक्षण मामले को लेकर महागठबंधन में बढ़ सकता है मतभेद

सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण की घोषणा होने के बाद बिहार में महागठबंधन के भीतर मतभेद गहरा होता दिख रहा है। खासकर राजद और कांग्रेस के सुर अलग-अलग सुनाई दे रहे हैं। एक तरफ जहां महागठबंधन में ही आपसी सहमति नहीं बन रही है, तो उधर राजद के अंदर भी तेजस्वी और तेज प्रताप में इस मसले पर अलग अलग राय सामने आ रही है। 

इसी बीच बिहार कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष कौकब कादरी ने बिहार में जल्द सवर्ण आरक्षण लागू करने की मांग की है। कादरी ने कहा है कि केंद्र सरकार ने जब सवर्ण आरक्षण लागू कर दिया तो बिहार में इसे लाने में क्यों देर हो रही है। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि सरकार सभी दलों से बात कर जल्द सवर्ण आरक्षण को लागू करें।

इधर, राजद की ओर से लगातार सवर्ण आरक्षण का विरोध किया जा रहा है, जबकि महागठबंधन में शामिल कांग्रेस, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (हम) और उपेंद्र कुशवाहा की पार्टी राष्ट्रीय लोक समता पार्टी ने इसका समर्थन किया है। जाहिर है इस मसले पर महागठबंधन में राजद अकेला पड़ गया है। 

You Might Also Like