लापरवाही की हद है भाई! बीमार कोई और इलाज कर दिया किसी और का, जानिए

लापरवाही की हद है भाई! बीमार कोई और इलाज कर दिया किसी और का, जानिए

जवाहर लाल नेहरू चिकित्सा महाविद्यालय और अस्पताल (जेएलएनएमसीएच) में बड़ी लापरवाही सामने आई है। यहां कर्मचारियों ने 70 वर्षीय दिनेश तांती का डायलिसिस कर दिया जबकि उमेश यादव का किया जाना था। जानकारी होने के बाद दिनेश तांती का डायलिसिस रोका गया। इस घटना की पुष्टि अस्पताल अधीक्षक ने भी की है।

मंगलवार को अस्पताल के मेडिसीन विभाग में बेड संख्या 34 में भर्ती जगदीशपुर प्रखंड के कोला नारायण निवासी उमेश यादव का डायलिसिस होना था। इसकी जगह बेड संख्या 35 पर भर्ती सबौर घोषपुर निवासी दिनेश तांती का डायलिसिस कर दिया गया। परिजनों को जानकारी हुई तो उन्होंने हंगामा भी किया।

बताया गया कि टेक्नीशियन श्याम सुंदर और नर्स ने बिना बीएचटी देखे ही दिनेश तांती को डायलिसिस रूम में लेकर चले गए। जब तक कर्मचारी को अपनी गलती का अहसास होता तब तक 15 मिनट तक डायलिसिस किया जा चुका था। आनन-फानन में डायलिसिस बंद किया गया। बताया गया कि डायलिसिस के पूर्व टेक्नीशियन ने चिकित्सक से भी संपर्क नहीं किया।

कहा-अस्पताल के अधीक्षक ने 

डायलिसिस प्रभारी से लेकर कर्मचारियों से स्पटीकरण मांगा जाएगा। घटना सही है। प्रथमदृष्टया टेक्नीशियन श्याम सुंदर  दोषी है।

 डॉ. आरसी मंडल, अधीक्षक, जेएलएनएमसीएच

कहा-प्रभारी डायलिसिस ने

बेड 34 पर बेड 35 का मरीज दिनेश तांती बैठ गया। भूलवश टेक्नीशियन उसे डायलिसिस रूम में लेकर चला गया। जब गलती का अहसास हुआ तो डायलिसिस नहीं किया गया।

डॉ. अंजुम परवेज, प्रभारी डायलिसिस

You Might Also Like