70वां गणतंत्र दिवस: इस बार भारत के खास मेहमान बनकर दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सायरिल रामाफोसा पहुंचे हैं

 70वां गणतंत्र दिवस: इस बार भारत के खास मेहमान बनकर दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सायरिल रामाफोसा पहुंचे हैं

भारत आज (26 जनवरी) अपना 70वां गणतंत्र दिवस मना रहा है. भारत में हर साल गणतंत्र दिवस के मौके पर किसी देश के खास शख्स को बुलाने की परंपरा रही है. इस बार भारत के खास मेहमान बनकर दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति सायरिल रामाफोसा पहुंचे हैं. रामफोसा परिवार सहित दिल्ली पहुंच चुके हैं. बुधवार को दक्षिण अफ्रीकी राष्ट्रपति सायरिल रामाफोसा को भारत पहुंचने पर उन्हें गार्ड ऑफ ऑनर दिया गया.

साउथ अफ्रीका के राष्ट्रपति सायरिल रामापोसा शुक्रवार (25 जनवरी) की सुबह दिल्ली स्थित राजघाट पहुंचे. यहां उन्होंने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि अर्पित की. 

जानिए कौन है सायरिल रामाफोसा

– 66 साल के माटामेला सायरिल रामाफोसा दक्षिण अफ्रीका के पांचवें राष्ट्रपति हैं. उनका जन्‍म 17 नवंबर, 1952 को जोहांसबर्ग में हुआ था. जैकब जुमा के इस्तीफे के बाद वह साल 2018 की फरवरी में राष्ट्रपति बने. 

– राष्ट्रपति जैकब जुमा के इस्तीफा के कुछ घंटे बाद ही सायरिल रामाफोसा को दक्षिण अफ्रीका का नया राष्ट्रपति निर्विरोध चुन लिया गया था. रामाफोसा को नेशनल असेंबली में निर्विरोध चुना गया. 

– 65 वर्षीय रामाफोसा ने अपने पहले भाषण में जुमा के कार्यकाल में हुए भ्रष्‍टाचार को खत्‍म करने का वादा किया है.

– रामाफोसा रंगभेद आंदोलन में जोरशोर शिरकत कर चुके हैं. इसके अलावा ट्रेड यूनियन नेता और व्यापारी रहे हैं. दक्षिण अफ्रीका के राष्‍ट्रपति रामाफोसा यहां के सबसे अमीर राजनेता हैं.

– रामाफोसा ने 2014 से 2018 तक दक्षिण अफ्रीका के उपराष्ट्रपति का पद संभाला था. वह दिसंबर 2017 में एएनसी राष्ट्रीय सम्मेलन में अफ्रीकी राष्ट्रीय कांग्रेस (एएनसी) के अध्यक्ष चुने गए थे.

– रामफोसा के 5 बच्‍चे हैं. पहली पत्‍नी नोमाजिजी त्‍सोत्‍सिसा, दूसरी पत्‍नी होप रामाफोसा और तीसरी व मौजूदा पत्‍नी शेपो मोत्‍सेपे हैं.

– इसी साल जून में पीएम मोदी ने ब्रिक्स सम्मेलन से इतर सायरिल से मुलाकात की थी. उन्हें गणतंत्र दिवस पर न्यौता भेजे जाने को महात्मा गांधी की 150वीं जयंती से जोड़कर देखा जा रहा है. नेल्सन मंडेला की तरह सायरिल भी गांधीवादी विचारधारा को मानते हैं. 

– ये दूसरी बार है जब गणतंत्र दिवस में किसी अफ्रीकी नेता को बतौर मुख्य अतिथि बुलाया गया है. इससे पहले साल 1995 के गणतंत्र दिवस समाहोर में अफ्रीकी नेता नेल्सन मंडेला ने मुख्य अतिथि के रूप में हिस्सा लिया था.

You Might Also Like