कांग्रेस पर बरसे PM मोदी, कहा- ‘चौकीदार की चौकसी से भ्रष्‍टाचारी बौखलाए हुए हैं’

कांग्रेस पर बरसे PM मोदी, कहा- ‘चौकीदार की चौकसी से भ्रष्‍टाचारी बौखलाए हुए हैं’

 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शनिवार को पूर्वोत्‍तर के तीन राज्‍यों के दौरे पर हैं. पीएम मोदी ने असम के गुवाहाटी में जनसभा को संबोधित करते हुए वंशवाद को लेकर कांग्रेस पर हमला बोला. उन्‍होंने कहा कि जन्‍म लेते ही वहां भारत रत्‍न तय हो जाता है. कांग्रेस ने भ्रष्‍टाचार को सिस्‍टम का हिस्‍सा बना लिया था. कांग्रेस की सरकार ने पूर्वोत्‍तर भारत की अनदेखी की है. इन क्षेत्रों में अब विकास हो रहा है. महामिलावटी लोग समाज को भड़काने में लगे हुए हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि चौकीदार की चौकसी से भ्रष्‍टाचारी बौखलाए हुए हैं. सुबह-शाम मोदी-मोदी के नाम की रट लगाए हुए हैं. हमारी सरकार में भ्रष्‍टाचारियों से सख्‍ती से निपटा जा रहा है. विपक्ष के नेताओं में मोदी को गाली देने की होड़ लगी है. उन्‍होंने कहा कि विपक्ष में तो एक ही मापदंड है कि कौन मोदी को ज्‍यादा गाली दे सकता है. इसी का कॉम्‍पटीशन चल रहा है. इन लोगों की एक ही प‍हचान है महामिलावट.

‘हम देश को घुसपैठियों से मुक्‍त कराना चाहते हैं’

असम एनआरसी मुद्दे पर भी पीएम मोदी ने बोला. उन्‍होंने कहा कि जिस एनआरसी का पहले कभी क्रियांवयन नहीं हुआ था, आज हमारी सरकार सुप्रीम कोर्ट की निगरानी में उसे लागू करने का कार्य कर रही है. उन्‍होंने कहा कि हम देश को घुसपैठियों से मुक्‍त कराना चाहते हैं. इसके लिए हम कार्य कर रहे हैं. भारत और बांग्‍लादेश की सीमा भी पूरी तरह से सील किए जाने के संबंध में कार्य हो रहा है.

‘जन्‍म लेते ही उनके लिए भारत रत्‍न तय हो जाता है’

उन्‍होंने कहा कि BC और AD यानि बिफोर कांग्रेस और आफ्टर डायनेस्टी का ही गौरवगान करने वालों से मैं आज यहां से पूछना चाहता हूं कि आखिर आपने भारत के सच्चे रत्नों को न पहचानने का कुटिल खेल दशकों तक क्यों खेला. आखिर ऐसा क्यों रहा कि कुछ लोगों के लिए जन्म लेते ही उनके लिए भारत रत्न तय हो जाता था और देश के मान-सम्मान के लिए जिन्होंने जीवन लगा दिया उनको सम्मानित करने के लिए दशक लग जाते थे?

‘मां भारती की संतानें’

पीएम मोदी ने कहा कि नागरिकता संशोधन का विषय सिर्फ असम या नॉर्थ ईस्ट से जुड़ा नहीं है, बल्कि देश के अनेक हिस्सों में मां भारती पर आस्था रखने वाली ऐसी संताने हैं, ऐसे लोग हैं, जिनको अपनी जान बचाकर भारत आना पड़ा है. चाहे वो पाकिस्तान से आए हों, अफगानिस्तान से आए हों या फिर बांग्लादेश से, ये 1947 से पहले भारत का ही हिस्सा थे, जब आस्था के आधार पर देश का विभाजन हुआ. हमसे अलग हुए देशों में जो अल्पसंख्यक यानि हिंदू, सिख, जैन, बौद्ध पारसी और ईसाई, वहां रह गए थे उनको संरक्षण देना हमारा दायित्व है.

‘नॉर्थ ईस्ट के विकास में नया इतिहास जुड़ रहा है’

पीएम मोदी ने कहा कि आज नॉर्थ ईस्ट के विकास में नया इतिहास जुड़ रहा है. थोड़ी देर पहले ही असम और नॉर्थ ईस्ट के विकास से जुड़े हज़ारों करोड़ के प्रोजेक्ट्स का लोकार्पण, उद्घाटन और शिलान्यास किया गया है. उन्‍होंने कहा कि आज मुझे गर्व है कि भारतीय जनता पार्टी की सरकार के समय ही असम के दो सपूतों, गोपीनाथ बोरदोलोई और भूपेन हजारिका को भारत रत्न देने का काम किया गया है. वोट बैंक के लिए असम को बर्बाद नहीं होने दूंगा.

You Might Also Like