असम के मुख्यमंत्री सरबानंदा सोनोवाल ने गुवाहाटी में किया तीसरे ब्रह्मपुत्र साहित्य महोत्सव का उद्घाटन

असम के मुख्यमंत्री सरबानंदा सोनोवाल ने गुवाहाटी में किया तीसरे ब्रह्मपुत्र साहित्य महोत्सव का उद्घाटन

असम के मुख्यमंत्री सरबानंदा सोनोवाल ने श्रीमंता शंकरदेव कला क्षेत्र में आयोजित तीसरे बह्मपुत्र साहित्य महोत्सव का उद्घाटन किया.

इस तीन दिवसीय कार्यक्रम की शुरुआत शनिवार को हुई, जिसे असम सरकार और प्रमोद कलिता सेक्रेटरी पब्लिकेशन बोर्ड ऑफ़ असम द्वारा साझा तौर पर आयोजित किया गया है. इस महोत्सव के पहले दिन दुनिया भर से आए युवा साहित्य प्रेमियों और लेखकों का जमावड़ा देखने को मिला.

उद्घाटन समारोह में बोलते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, “इस बार का महोत्सव युवा लेखकों के लिए बेहद रुचिकर है. युवाओं को भी समाज के प्रति अपने योगदान के लिए सजग रहना चाहिए. हमारे प्रधानमंत्री का भी मानना है कि काम ही पूजा है और अपने अंदर के‌ कर्मठ इंसान को पहचाने के लिए कड़ी मेहनत करनी चाहिए, समर्पण भाव और ईमानदारी दिखानी चाहिए. भगवान भी आपको तभी नज़र आते हैं जब आप अपने काम‌ में समर्पण भाव औए पूरी ईमानदारी दिखाते हैं.

उन्होंने कहा, “बह्मपुत्र साहित्य महोत्सव में हम अगले साल से दो नए पुरस्कारों की शुरुआत करेंगे. इसमें से एक नेशनल अवॉर्ड होगा जिसके तहत 10 लाख की ईनामी राशि भी दी जाएगी. दूसरा पुरस्कार युवा और उभरते लेखकों के लिए होगा, जिसके तहत पांच लाख रुपये की राशि प्रदान की जाएगी.

मुख्यमंत्री ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा कि लेखकों को साहित्य लेखन में और ध्यान केंद्रित करना चाहिए और उनके दिमाग में जो कुछ भी आए, उसे अनुभवों और अपने मेहनत के आधार पर लिखना चाहिए. मुख्यमंत्री ने समारोह में मौजूद सभी लेखकों से इस महोत्सव को एक बेहतरीन तोहफ़े में तब्दील‌ करने की भी गुज़ारिश की.

मुख्यमंत्री ने कहा, “असम दुनिया के सबसे ख़ूबसूरत राज्यों में से एक है और युवाओं के लिए ये महोत्सव बेहद उत्साहवर्धक है. हमारे माननीय प्रधानमंत्री ने भी‌ कहा है कि वो भारत को एक गौरवशाली देश बनाना चाहते हैं, जिसमें युवाओं की एक अहम भूमिका होगी. उन्होंने दुनिया के सामने पहले ही इस बात का ऐलान कर दिया है कि वो भारत को दुनिया का सबसे अव्वल‌ देश बनाना चाहते हैं और ऐसा युवाओं के बदौलत ही संभव हो पाएगा. ग़ौरतलब है कि युवाओं की आबादी के हिसाब से भारत दुनिया का सबसे युवा देश है. 21वीं सदी युवाओं की सदी होगी और देश व समाज के विकास में युवाओं का महत्वपूर्ण योगदान होगा.”

समारोह के पहले दिन श्रीलंका, सिंगापुर, वितयनाम, अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस, इंडोनेशिया जैसे दुनियाभर के देशों के तमाम गणमान्य हस्तियां ने अपनी मौजूदगी दर्ज कराई और मुख्यमंत्री ने खुले दिल से उनका स्वागत किया.

You Might Also Like