बिहार : नई वृद्धा पेंशन योजना का लाभ उठाने के लिए तुरंत तैयार कर लें ये डाक्यूमेंट्स

बिहार : नई वृद्धा पेंशन योजना का लाभ उठाने के लिए तुरंत तैयार कर लें ये डाक्यूमेंट्स

बिहार सरकार ने उन सभी बुजुर्गों को वृद्धावस्था पेंशन देने का फैसला लिया है, जो सरकारी सेवा से सेवानिवृत नहीं हुए हैं. यानि अब इस दायरे में बीपीएल, एपीएल के साथ सामान्य वर्ग के लोग भी शामिल हो गए हैं. आपको बता दें कि वृद्धावस्था पेंशन अब तक BPL में शामिल लोगों को ही मिलती थी. सीएम नीतीश कुमार ने विधानसभा में इस बात की घोषणा करते हुए कहा कि पेंशन का लाभ 1 अप्रैल 2019 से मिलेगा. आगे की स्लाइड्स में देखें वो डाक्यूमेंट्स जो आपको इस योजना का लाभ दिलाने में सहायक साबित हो सकते हैं…

बुजुर्गों को वृद्धावस्था पेंशन योजना के तहत प्रति महीने 400 रुपया दिया जाता है. इसके लिए 60 वर्ष तक के सभी महिला और पुरुष पात्र हैं. इस व्यवस्था का फायदा उठाने के लिए ये भी जानना जरूरी है कि इसके लिए अभी से कौन-कौन से कागजात तैयार कर लेने चाहिए. जैसे पैन कार्ड- आज के समय में सभी नौकरी और सेवाओं के लिए अनिवार्य कर दिया गया है, अगर आपने अभी तक पैन कार्ड नहीं बनवाया है तो जल्‍द ही इसके लिए अप्‍लाई कर दें. शिक्षा और नौकरी में अब पैन कार्ड लगाना अनिवार्य होता है.

इस योजना का लाभ उठाने के लिए आय प्रमाण पत्र दिखाना अनिवार्य हो सकता है. सरकार ने इसके लिए नियम जारी किए हैं. आय प्रमाण पत्र बनवाना आज के समय में एक तरह से अनिवार्य कर दिया गया है.

इस योजना का लाभ उठाने के लिए जरूरी है कि आपके पास जाति प्रमाण पत्र हो. सवर्ण जाति के लोगों को कभी भी जाति प्रमाण पत्र लगाने की जरूरत नहीं होती इसलिए ज्‍यादातर लोगों के पास जाति प्रमाण पत्र नहीं होता है.

इस योजना के लाभ के लिए आधार कार्ड होना भी बेहद जरूरी है. आधार कार्ड भारतीय नागरिक होने की पहचान के तौर पर दिखाया जाता है. आधार कार्ड के जरिए आपकी पूरी जानकारी हासिल की जा सकती है इसलिए इसे नौकरी में अनिवार्य कर दिया गया है. अगर आपने अभी भी आधार कार्ड नहीं बनवाया है तो उसे तुरंत बनवा लें.

इस योजना का लाभ लेने के लिए इनकम टैक्‍स रिटर्न के कागजात को भी सरकार मांग सकती है ऐसे में इस कागजात को अपने साथ रखने होंगे. नीतीश कुमार ने दूसरी बड़ी घोषणा प्रदेश के पत्रकारों के लिए भी की है. इसके तहत पत्रकार के लिए ‘बिहार पत्रकार सम्मान योजना’ की शुरुआत की बात विधानसभा पटल पर कही है. इसके तहत उन पत्रकारों को 6 हजार रुपया जीवन भर दिया जाएगा जिन्होंने 20 वर्षों तक पत्रकारिता क्षेत्र में बिताए हैं.

You Might Also Like