भारतीय सैन्‍य ताकत के आगे ‘फिसड्डी’ है पाकिस्‍तान

भारतीय सैन्‍य ताकत के आगे ‘फिसड्डी’ है पाकिस्‍तान

केंद्रीय रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ) के 40 जांबाज जवानों की शहादत से पूरा देश गमगीन है. किसी ने अपने भाई को खोया, किसी ने बेटे को तो किसी ने अपने पति को और देश ने वीरों को. अब हर भारतीय आतंकवाद को पनाह देने वाले पाकिस्‍तान से बदला लेने की मांग कर रहा है. पाकिस्‍तान ने भी सीमा पर अपनी सैन्‍य गतिविधि बढ़ा दी है. लेकिन सच्‍चाई यही है कि भारतीय सैन्‍य ताकत के आगे पाकिस्‍तान पूरी तरह से फिसड्डी है.

दुनिया के 100 से अधिक देशों की सैन्‍य क्षमता का आकलन करने वाली अंतरराष्‍ट्रीय एजेंसी ग्‍लोबल फायर पावर की एक रिपोर्ट में इसकी झलक दिखती है. 2018 फायरपावर इंडेक्‍स के मुताबिक सैन्‍य साजो-सामान और गोला बारूद से लेकर लड़ाकू विमानों तक पाकिस्‍तान भारत के आसपास भी नहीं ठहरता. इसके बावजूद पाकिस्‍तान हमेशा भारत की ओर आंख उठाकर देखता है.

सैन्‍य क्षमता में भारत चौथा सशक्‍त देश, पाकिस्‍तान बहुत नीचे

ग्‍लोबल फायर पावर के 2018 इंडेक्‍स के मुताबिक सैन्‍य क्षमता के के मामले में भारत चौथा सशक्‍त देश है. पहले स्‍थान पर अमेरिका, दूसरे पर रूस और तीसरे पर चीन है. वहीं अगर पाकिस्‍तान की बात करें तो वह इस सूचकांक में 17वें स्‍थान पर है. मतलब साफ है कि पाकिस्‍तान भारत से काफी पीछे है.

पाकिस्‍तान से अधिक सैनिक हैं हमारे पास

2018 के इस सूचकांक के मुताबिक भारत के पास पाकिस्‍तान के मुकाबले अधिक सैन्‍य बल है. रिपोर्ट में दावा किया गया है कि भारत के पास कुल 42.07 लाख (42,07,250) सैन्‍य बल मौजूद है. इसमें सक्रिय सैनिकों की संख्‍या 13.62 लाख (13,62,500) है. वहीं भारत के पास रिजर्व सैन्‍य बल 28 लाख (28,44,750) है.

You Might Also Like