CRPF ने कहा, ‘हम भारतीय हैं, जाति-धर्म का दयनीय विभाजन हमारे खून में नहीं’

CRPF ने कहा, ‘हम भारतीय हैं, जाति-धर्म का दयनीय विभाजन हमारे खून में नहीं’

पुलवामा हमले में शहीद 40 जवानों की जाति को लेकर एक पत्रिका में छपी रिपोर्ट पर सीआरपीएफ ने कड़ी नाराजगी जताई है. दुनिया के सबसे बड़े अर्द्धसैन्य बल ने अपने मुख्य प्रवक्ता के टि्वटर हैंडल के जरिये कहा है, “सीआरपीएफ में हमारी पहचान भारतीय के तौर पर है…जाति-धर्म मायने नहीं रखता.”

मुख्य प्रवक्ता और उप महानिरीक्षक (डीआईजी) एम. दिनाकरण ने ट्वीट किया, “सीआरपीएफ में हमारी पहचान भारतीय के तौर पर है…जाति, रंग और धर्म का यह दयनीय विभाजन हमारे खून में मौजूद नहीं है.”

उन्होंने खबर को भी टैग करते हुए कहा कि शहीदों का अपमान नहीं करना चाहिए. रिपोर्ट में आंकड़ों के रूप में इस्तेमाल कर उनका अपमान नहीं करना चाहिए.

दिनाकरण के ट्वीट पर प्रतिक्रिया देते हुए रिटायर्ड मेजर गौरव आर्या लिखते हैं, “दिनकरण सर, आप पर गर्व है. आपके एक ट्वीट ने निंदनीय लेख को खारिज कर दिया. जब कोई जवान एक बार वर्दी पहन लेता है, वह अपनी अन्य पहचान छोड़ देता है. वह सिर्फ भारतीय होता है. जब उसका पार्थिव शरीर तिरंगे में लिपटा हुआ वापस आता है तो वह भारत मां का बेटा होता है.”

सीआरपीएफ ने पुलवामा आतंकी हमले के बाद अपने ट्विटर हैंडल से ट्वीट करते हुए कहा था कि वह जम्मू-कश्मीर में भयावह आतंकी हमले में शहीद हुए अपने 40 जवानों की शहादत को न तो भूलेगा और न ही माफ करेगा बल्कि इसका बदला लेगा. केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) ने सोशल मीडिया पोस्ट में कहा था, “हम पुलवामा हमले में शहीद हुए अपने जवानों को सलाम करते हैं और शहीद भाइयों के परिवारों के साथ खड़े हैं. इस क्रूर हमले का बदला लिया जाएगा.”

इससे पहले सीआरपीएफ ने लोगों को शहीदों के क्षत-विक्षत शवों के बारे में फर्जी तस्वीरें प्रसारित करने के खिलाफ परामर्श जारी किया था.

You Might Also Like