अपनी इस खूबी के कारण सबसे खतरनाक हो जाते हैं जसप्रीत बुमराह: पैट कमिंस

अपनी इस खूबी के कारण सबसे खतरनाक हो जाते हैं जसप्रीत बुमराह: पैट कमिंस

भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच जारी में टी20 सीरीज (India vs Australia) में अगर किसी गेंदबाज को सबसे खतरनाक कहना है तो वे जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) होंगे. यह राय किसी भारतीय क्रिकेटर नहीं, ऑस्ट्रेलिया के ही तेज गेंदबाज पैट कमिंस (Pat Cummins) की है. दिलचस्प बात यह है कि पैट कमिंस अभी ऑस्ट्रेलिया के पेस अटैक के सबसे भरोसमंद हथियार हैं. इतना ही नहीं, वे अक्सर बल्लेबाजी में उपयोगी भूमिका निभाते रहे हैं. फॉर्म में चल रहे पैट कमिंस ने कहा कि जसप्रीत बुमराह की तेजी और सटीकता उसे तीनों प्रारूपों में बड़ा खतरा बनाते हैं.

पैट कमिंस पिछले 12 महीने में ऑस्ट्रेलिया के सबसे सफल तेज गेंदबाज रहे हैं. उन्होंने बल्ले से भी उपयोगी योगदान दिया है. कमिंस ने रविवार को विजाग में भी अंतिम दो गेंद पर चौका और दो रन लेकर ऑस्ट्रेलिया की तीन विकेट से जीत सुनिश्चित की. बुमराह ने इस मैच के 19वें ओवर में सिर्फ दो रन देकर दो विकेट झटके थे, लेकिन भारत इसका फायदा नहीं उठा सका. उमेश यादव आखिरी ओवर में 14 रन का बचाव नहीं कर पाए थे और भारत मैच हार गया था.

पैट कमिंस ने बुधवार को यहां भारत के खिलाफ होने वाले दूसरे और अंतिम टी20 की पूर्व संध्या पर कहा, ‘बेशक जसप्रीत बुमराह  स्तरीय खिलाड़ी हैं. उनके दो बेसिक्स काफी अच्छे हैं. वे तेज और सटीक गेंदबाजी करते हैं. विश्व क्रिकेट में जो भी ऐसा करता है, वह बल्लेबाजों के लिए असली चुनौती पेश करता है. उनके पास बेहतरीन स्लोअर बॉल है. ऐसा लगता है कि उनके पास काफी अच्छा क्रिकेट दिमाग है. वे अपनी योजनाओं को काफी अच्छी तरह अंजाम देते हैं.’

25 साल के पैट कमिंस ने कहा, ‘उन्होंने (बुमराह) सभी तीनों प्रारूपों में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है और उससे अच्छे प्रदर्शन की उम्मीद की जा रही है.’ उन्होंने कहा, ‘मैं इस समय अपने खेल को लेकर काफी खुश हूं. काफी चीजें सही हो रही हैं. लगातार अच्छा क्रिकेट खेलने से मदद मिली है.’ पैट कमिंस ने कहा, ‘मैंने सफेद गेंद से ज्यादा क्रिकेट नहीं खेला है. इसलिए अधिक मैच खेलने को लेकर उत्सुक हूं. यह लाल गेंद जितनी स्विंग नहीं होती.’

पैट कमिंस बल्ले से कुछ मौकों पर उपयोगी योगदान देने के बावजूद खुद को बल्लेबाज नहीं मानते. उन्होंने कहा, ‘मैं आठवें या नौवें नंबर पर बल्लेबाजी करके काफी खुश हूं. मुझे लगता है कि टीम में मेरी भूमिका यह है कि मैं अपना विकेट बचाऊं और कुछ अधिक समय तक बल्लेबाजी करूं. उम्मीद करता हूं कि दूसरे छोर पर मेरे साथ बल्लेबाज होगा जो इसका फायदा उठा पाएगा, खासकर टेस्ट मैचों में. मेरे पास कई अन्य बल्लेबाजों की तरह बड़े शॉट हो सकते हैं और मैंने इसका लुत्फ उठाया है.’

ऑस्ट्रेलिया भारत में सीरीज अपने नाम करने से सिर्फ एक जीत दूर है. कमिंस का मानना है कि अगर ऐसा होता है तो यह काफी बड़ा नतीजा होगा. कमिंस को विजाग में गेंदबाजी के अनुकूल हालात काफी पसंद आए. बेंगलुरू के एम चिन्नास्वामी स्टेडियम की पिच पर उन्हें अधिक रन बनने की उम्मीद है.

You Might Also Like