अजमेर शरीफ के 807वें उर्स के अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने की मुल्क की खुशहाली की दुआ

अजमेर शरीफ के 807वें उर्स के अवसर पर प्रधानमंत्री मोदी ने की मुल्क की खुशहाली की दुआ

शनिवार को नई दिल्ली में अजमेर शरीफ दरगाह के दोनों अंजुमनों और दरगाह कमिटी के सदर एवं मुस्लिम समुदाय के प्रमुख लोगों के प्रतिनिधिमंडल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से भेंट कर “समावेशी विकास” और देश की सुरक्षा के उनके मजबूत संकल्प के लिए बधाई दी.

प्रधानमंत्री ने प्रतिनिधिमंडल को उनकी तरफ से 807वें उर्स के अवसर पर ख्वाजा अजमेरशरीफ दरगाह में पेश की जाने वाली चादर और सन्देश सुपुर्द किया. प्रतिनिधिमण्डल ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की दस्तारबंदी की और मुल्क की खुशहाली, सौहार्द, सुरक्षा की दुआ की. प्रतिनिधिमंडल ने विश्वास दोहराया की मोदी के नेतृत्व में देश और देश के लोग सुरक्षित हैं और दुनिया भर में भारत का गौरव बढ़ा है.

प्रतिनिधिमंडल में सय्यद मोईन हुसैन, शेखजादा अब्दुल जरार चिश्ती, शेखजादा अब्दुल मजीद चिश्ती, सईद अफशान अहमद चिश्ती, मुज़फ्फर अली, कमर आघा,  कुलसूम सैफुल्ला,  अमिन पठान, सय्यद हम्माद निज़ामी, सिराजुद्दीन कुरेशी आदि शामिल थे.

यहां आपको यह भी बता दें कि, विश्व प्रसिद्ध सूफी संत हज़रत ख्वाजा मोइनुद्दीन हसन चिश्ती की दरगाह जहां सभी धर्म जाति के अकीदतमंद मन्नत मांगने पहुंचते है. इस वजह से जायरीन दरगाह में मौजूद दो बड़ी देगों में आस्था के अनुसार नजराना राशि चढ़ाते हैं. दरगाह के बुलंद दरवाज़ा के पास मौजूद बादशाह अकबर और जहांगीर की देगों का ठेका इस बार 3 करोड़ 30 लाख 10 हज़ार में छुटा.

दो दिनों से अजमेर दरगाह की अंजुमन दफ्तर में खादिम समुदाय के लोगों ने इस ठेके की बोली में हिस्सा लिया. गौरतलब है कि 25 दिनों तक देग में नजराना राशि के लिए ये ठेका लिया जाता है. जिसमे 15 दिन ख्वाजा साहब के उर्स और 10 दिन पुष्कर मेलेबके शामिल होते है. पिछले वर्ष इन देगों की बोली 3 करोड़ 77 लाख 40 हज़ार में छुटी थी. इस बार 47 लाख 30 हज़ार कम में ये ठेका छूटा है.

You Might Also Like