UP: जूता कांड के बाद विधायको ने दिया धरना, कड़ी सुरक्षा में निकाले गए सांसद

UP: जूता कांड के बाद विधायको ने दिया धरना, कड़ी सुरक्षा में निकाले गए सांसद

यूपी के खलीलाबाद से बीजेपी के सांसद शरद त्रिपाठी और मेंहदावल से बीजेपी विधायक राकेश सिंह बघेल के बीच बुधवार को जमकर मारपीट हुई. इसके बाद विधायक राकेश सिंह बघेल अपने समर्थकों के साथ सांसद शरद त्रिपाठी के ऊपर कार्रवाई की मांग को लेकर धरने पर बैठ गए हैं. इस बीच विधायक और सांसद को बीजेपी हाईकमान ने लखनऊ तलब कर लिया है.

इस बीच बुधवार पूरी रात संतकबीरनगर जिला मुख्यालय का माहौल तनावपूर्ण रहा. विधायक समर्थक पूरी रात शरद त्रिपाठी के खिलाफ अमर्यादित भाषा का इस्तेमाल करते हुए नारेबाजी करते रहे. इस बीच जिला प्रशासन ने शरद त्रिपाठी को कलेक्ट्रेट के एक कमरे में बैठाया. रात में विधायक समर्थकों ने शरद त्रिपाठी के रूम में घुसने की भी कोशिश की और तोड़फोड़ किया. हालात पर काबू पाने के लिए पुलिस ने विधायक समर्थकों पर लाठीचार्ज भी किया. कई समर्थक घायल भी बताए जा रहे हैं.

गुरुवार को भी माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है. विधायक राकेश सिंह बघेल लाठीचार्ज के विरोध में धरने पर बैठे हैं. उन्होंने लाठीचार्ज करने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई के साथ ही सांसद शरद त्रिपाठी के खिलाफ भी कार्रवाई करने की मांग की है. धरने पर बैठे विधायक समर्थक भारत माता की जय और जय श्रीराम के नारे लगा रहे हैं.

लखनऊ बुलाए गए सांसद-विधायक

शरद त्रिपाठी और राकेश सिंह बघेल के बीच हुई मारपीट मामले में बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष महेन्द्र नाथ पाण्डेय ने संतकबीर नगर में मारपीट की घटना को अशोभनीय एवं अमर्यादित आचरण करार दिया था. उन्होंने मामले को गंभीरता से संज्ञान लेते हुए सांसद शरद त्रिपाठी और विधायक राकेश सिंह बघेल को तत्काल लखनऊ बुलाया है.

दोनों पर हो सकती है कार्रवाई

सूत्रों के मुताबिक, पार्टी हाईकमान विधायक और सांसद पर अनुशासनात्मक कार्रवाई कर सकता है. बीजेपी के स्थानीय नेताओं से रिपोर्ट तलब की गई है. बताया यह भी जा रहा है कि पूर्व प्रदेश अध्यक्ष रमापति राम त्रिपाठी के बेटे और खलीलाबाद से सांसद शरद त्रिपाठी का पार्टी टिकट भी काट सकती है. इसके अलावा दोनों नेताओं को निलंबित किए जाने की भी खबर है.

You Might Also Like