गुरुवायूर मंदिर: दक्षिण भारत का द्वारका, 5000 हजार पुराना इतिहास

दूसरी बार प्रधानमंत्री पद की जिम्मेदारी संभाल रहे नरेंद्र मोदी आज केरल में हैं. मोदी आज यहां त्रिसूर जिले में गुरुवायूर मंदिर में पूजा करेंगे. मोदी सुबह करीब 9:30 से 10:30 बजे के तक मंदिर परिसर पहुंचेंगे. पूजा के बाद वह दिन में स्थानीय भाजपा कार्यकर्ताओं की ओर से आयोजित उत्सव में शामिल होंगे. आइए जानते हैं कि आखिर इस मंदिर की विशेषता क्या है.

 

 

 

 

 

 

 

1. गुरुवायूर मंदिर में भगवान गुरुवायुरुप्पन की पूजा होती है. गुरुवायुरुप्पन को भगवान विष्णु का ही रूप माना जाता है. इसी वजह से इस मंदिर को गुरुवायूर श्रीकृष्ण मंदिर भी कहते हैं. केरल के इस पवित्र स्थान को दक्षिण भारत का द्वारका भी कहा जाता है, जहां कृष्ण का जन्म हुआ था.

Related Articles

Live TV
Close