श्रीलंका / मोदी ने कहा- विदेशों में किसी को भारतीयों से कोई शिकायत हो, ऐसी कोई घटना मुझे ध्यान नहीं

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ईस्टर बम धमाकों में मारे गए लोगों को श्रद्धांजलि दी
  • मोदी बम धमाकों के बाद श्रीलंका जाने वाले पहले विदेशी नेता
  • श्रीलंका में 21 अप्रैल को हुए धमाकों में 11 भारतीय समेत 258 लोगों की जान गई थी
  • नरेंद्र मोदी आज आंध्र प्रदेश के तिरुपति मंदिर में पूजा करेंगे

नई दिल्ली. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रविवार को श्रीलंका की राजधानी कोलंबो पहुंचे। यहां उन्होंने ईस्टर के दिन धमाकों में मारे गए लोगों को चर्च में श्रद्धांजलि दी और राष्ट्रपति भवन में पौधा भी लगाया। मोदी ने मोदी ने कोलंबो स्थित इंडियन हाउस में भारतीय समुदाय को संबोधित किया। मोदी ने कहा ‘‘आज विश्व में भारत की स्थिति काफी मजबूत है। इसका सबसे ज्यादा श्रेय दुनिया के कोने-कोने में रहने वाले भारतीयों को जाता है। आप दुनिया के किसी भी देश में जाइए, भारतीयों के प्रति किसी को कोई भी शिकायत हो, ऐसी कोई घटना मेरे ध्यान में नहीं आई है।’’

कोलंबो एयरपोर्ट पर प्रधानमंत्री रानिल विक्रमसिंघे ने मोदी की अगुआई की थी। इसके बाद मोदी ने श्रीलंका के राष्ट्रपति मैत्रीपाला सिरिसेना के अलावा विपक्ष के नेता महिंदा राजपक्षे और तमिल राष्ट्रीय गठबंधन के नेताओं से भी मुलाकात की। 21 अप्रैल को श्रीलंका में हुए बम धमाकों के बाद मोदी वहां जाने वाले पहले विदेशी नेता हैं। श्रीलंका में ईस्टर के दिन हुए बम धमाकों में 11 भारतीय समेत 258 लोगों की मौत हो गई थी। इस हमले की जिम्मेदारी आतंकी संगठन आईएस ने ली थी।

भारतीय जिस देश में रहता है, वहां के प्रधानमंत्री की सोच रखता है

मोदी ने कहा, ‘‘दुनिया में भारत का गौरव और संस्कृति बढ़ाने में आपका बहुत बड़ा योगदान है। आज विश्व में भारत की स्थिति काफी मजबूत है। इसका सबसे ज्यादा श्रेय दुनिया के कोने-कोने में रहने वाले भारतीयों को जाता है। भारतीयों ने हर जगह उपलब्धियां हासिल की हैं। भारतीय व्यक्ति जिस देश में रहता है, उसकी सोच उस देश के प्रधानमंत्री की तरह ही होती है। यही हमारी सबसे बड़ी ताकत है और यह ताकत देने के लिए मैं आपका आभार व्यक्त करता हूं।’’

भारतीयों ने बहुमत की सरकार देकर बहुत बड़ा संदेश दिया

उन्होंने कहा, ‘‘आप टीवी तो देखते ही होंगे। भारतीयों ने बहुमत की सरकार देकर बहुत बड़ा संदेश दिया है। अगर चीन को छोड़ दें तो दुनिया के किसी भी देश की जनसंख्या से ज्यादा लोगों ने वोट डाला था। आजादी के बाद यह अब तक का सबसे बड़ा मतदान हुआ। महिलाओं ने भी आजादी के बाद इतनी बड़ी संख्या में मतदान किया। भारत में लोकतंत्र कोई व्यवस्था नहीं है, भारत में लोकतंत्र एक संस्कार है। दुनिया यही समझ नहीं पाती है। दुनिया आज भी व्यवस्था के लोकतंत्र से जुड़ी है और भारत संस्कार के लोकतंत्र से जुड़ा है। सिर्फ मतदान तक ही किसी को कहीं से कम, तो किसी को कहीं से ज्यादा वोट मिलते हैं। लेकिन चुनाव के बाद कश्मीर से कन्याकुमारी तक पूरा देश एक होता है। 130 करोड़ देशवासियों का कल्याण ही सरकार का लक्ष्य होता है। हमें अगले पांच साल में काफी विकास करना है।’’

आंध्र प्रदेश के तिरुपति जाएंगे मोदी

मोदी कोलंबो से सीधे आंध्र प्रदेश के तिरुपति जाएंगे। यहां एयरपोर्ट के पास आयोजित रैली को संबोधित करने के बाद भगवान वेंकटेश्वर मंदिर में पूजा करेंगे। मुख्यमंत्री जगनमोहन रेड्डी भी उनके साथ मौजूद रहेंगे।

बतौर प्रधानमंत्री मोदी का तीसरा श्रीलंका दौरा
प्रधानमंत्री रहते मोदी का यह तीसरा श्रीलंकाई दौरा था। इससे पहले वे 2015 और 2017 में भी श्रीलंका दौरे पर जा चुके हैं। दौरे से पहले भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि मोदी का यह दौरा श्रीलंका सरकार को यह बताने के लिए है कि मुश्किल हालात में हम उनके साथ बराबरी से खड़े हैं। मंत्रालय ने कहा था कि आतंकवाद से निपटने में भारत सरकार श्रीलंका की पूरी मदद करेगा।

शनिवार को गुरुवायुरप्पन मंदिर गए थे मोदी
इससे पहले मोदी ने शनिवार को केरल के त्रिशूर स्थित गुरुवायुरप्पन (श्रीकृष्ण) मंदिर में पूजा-अर्चना की थी। यह मंदिर 5 हजार साल पुराना है और इसे दक्षिण भारत की द्वारिका भी कहा जाता है। यहां वे मंदिर की पारंपरिक वेशभूषा में नजर आए। भाजपा कार्यकर्ताओं की ‘अभिनव सभा’ में उन्होंने कहा कि हम लोकसभा चुनाव में सिर्फ राजनीति के लिए मैदान में नहीं थे, बल्कि जनसेवा हमारा लक्ष्य है। भले ही यहां हमारा खाता नहीं खुला, लेकिन जनता का आभार जताने के लिए आया हूं। ये हमारी सोच और संस्कार हैं।

Related Articles

Live TV
Close