अवैध डेयरियों के खिलाफ नगर निगम का अभियान पहले ही दिन फेल हो गया।

अवैध डेयरियों के खिलाफ नगर निगम का अभियान पहले ही दिन फेल हो गया। शासन की सख्ती और कोर्ट की फटकार के बाद नगर निगम ने शुक्रवार से अवैध डेयरियों के खिलाफ कार्रवाई की तैयारी की थी, लेकिन पुलिस न मिल पाने के कारण अभियान नहीं चल सका। वहीं, पुलिस का आरोप है कि नगर निगम ने उन्हें अभियान की पूर्व सूचना नहीं दी थी।

शहर में 1034 अवैध डेयरियां चल रही हैं। शासन ने 30 जून तक इन्हें हटाने का आदेश दिया है। शासन के निर्देश के बाद नगर निगम ने डेयरी संचालकों को 20 जून तक डेयरियां हटाने के लिए कहा था, लेकिन पूरे शहर में एक भी अवैध डेयरी नहीं हट पाई। इसके बाद नगर निगम ने वजीरगंज से अभियान की शुरुआत का ऐलान किया था, लेकिन पुलिस बल न मिल पाने के कारण टीम निकल ही नहीं सकी।

फैजुल्लागंज में सबसे ज्यादा डेयरियां

अवैध डेयरियों के कारण शहर में गंदगी की बड़ी समस्या है। आए दिन लोग इसकी शिकायत दर्ज करवाते हैं, जबकि डेयरियों के कारण अक्सर विवाद भी होते रहते हैं। आरोप है कि नगर निगम अधिकारियों और पुलिस की मिलीभगत से डेयरियों का खुलेआम संचालन हो रहा है। शहर में सबसे ज्यादा अवैध डेयरियां फैजुल्लागंज इलाके में हैं। यहां 200 से ज्यादा डेयरियां अवैध रूप से चल रही हैं। वहीं, गोमतीनगर, साउथ सिटी, वृंदावन और इंदिरा नगर जैसे वीआईपी इलाकों में भी डेयरियां चल रही हैं। मोहल्लों में डेयरियों की वजह से जहां बीमारियां फैलने का भी खतरा बना रहता है, वहीं मवेशियों के कारण सड़क हादसे भी होते रहते हैं। \B \B

वर्जन

हमारी तरफ से पूरी तैयारी थी। 50 लोगों की पांच टीमें भी बनाई गई थीं, लेकिन पुलिस बल न होने के कारण अभियान नहीं चला। इसमें सभी विभागों को सहयोग करना था।

– एसके राव, संयुक्त निदेशक, पशु कल्याण

नगर निगम की ओर से अभियान की पूर्व सूचना नहीं दी गई थी। शाम चार बजे फोन करके फोर्स की मांगी गई। उस समय उतनी फोर्स मौजूद न होने के कारण नगर निगम को मना कर दिया गया।

You Might Also Like