सड़कों पर दौड़ रहे तीन साल पुराने ई-रिक्शे होंगे नष्ट, डीजल टेंपो भी कतार में

सड़कों पर दौड़ रहे तीन साल पुराने ई-रिक्शे होंगे नष्ट, डीजल टेंपो भी कतार में

लखनऊ,  शहर में लगातार बढ़ रही ट्रैफिक की समस्या से निजात पाने के लिए प्रशासन ने अब तीन साल पुराने सड़क पर दौड़ रहे ई-रिक्शों को नष्ट करने के निर्देश दिए हैं। इसके लिए प्रशासन ने परिवहन विभाग को स्क्रैप पालिसी तैयार करने को कहा है। साथ ही डीजल संचालित टेंपो को भी शहर से बाहर करने के निर्देश दिए।

कलेक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी लखनऊ कौशल राज शर्मा की अध्यक्षता में क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी, पुलिस अधीक्षक यातायात और टेंपो यूनियन के पदाधिकारियों की बैठक में कई मामलों पर चर्चा हुई। राजधानी में करीब बीस हजार ई रिक्शा पंजीकृत है। आरटीओ ने बताया कि करीब छह से सात हजार ई रिक्शा ऐसे हैं जो तीन साल की अवधि पूरी कर चुके हैं। ऐसे ई रिक्शा को नष्ट किए जाने हेतु जिलाधिकारी ने संभागीय परिवहन अधिकारी को स्क्रैप पॉलिसी तैयार करने को कहा। इसी तरह ऑटो टेंपो यूनियन के पदाधिकारियों ने बताया कि बड़ी संख्या में डीजल के टेंपो शहर क्षेत्र में चल रहे हैं, जो पर्यावरण को प्रदूषित कर रहे हैं। डीएम ने इस पर डीजल चालित ऑटो टेंपो सीज करने तथा उन्हें नष्ट किए जाने हेतु पॉलिसी बनाने को परिवहन अधिकारी को निर्देशित किया।

मेट्रो रूट से शिफ्ट होंगे वाहन  

मेट्रो के बाद लगातार शहर में ट्रैफिक व्यवस्था में बदलाव की बात की जा रही है। इस बात पर जोर दिया गया कि जहां पर यातायात की सुविधा नहीं है वहां पर टेंपो और ई रिक्शा को शिफ्ट किया जाए। डीएम ने पॉलिटेक्निक चौराहा और केजीएमयू के आसपास यातायात का दबाव कम करने के निर्देश दिए। डीएम ने ऑटो टेंपो ड्राइवरों द्वारा ओवरलोडिंग तथा निर्धारित रूट पर चल कर अन्य रूटों पर चलने वालों के खिलाफ सख्ती से निपटने के निर्देश दिए।

इन इलाकों के लिए जारी होंगे परमिट 

गोमती नगर विस्तार, जानकीपुरम, वृंदावन योजना सहित कई दूरस्थ क्षेत्रों में भी सार्वजनिक यातायात सुनिश्चित करने के लिए रूट निर्धारण तथा परमिट जारी होंगे।

You Might Also Like