राज्यसभा में NDA की स्थिति होगी और मजबूत, जानें कैसा है उच्च सदन का हाल

राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (NDA) इस सप्ताह के अंत में चार और सदस्यों को शामिल कर राज्यसभा में अपनी स्थिति मजबूत करेगा। यह तेलुगू देशम पार्टी (तेदेपा) के चार और भारतीय राष्ट्रीय लोक दल (आईएनएलडी) के एक सदस्य के शामिल होने के बाद होगा। इसके साथ, एनडीए के पास 115 सांसद होंगे।

ये सदस्य बिहार, गुजरात और ओडिशा से हैं। बिहार में, लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) को जगह मिलेगी। गुजरात में भाजपा के खाते में दो और ओडिशा में एक सीट जुड़ जाएगी।

भारतीय जनता पार्टी उच्च सदन में 75 सदस्यों के साथ सबसे बड़ी पार्टी है। कांग्रेस 48 सदस्यों वाली सबसे बड़ी विपक्षी पार्टी है और समाजवादी पार्टी और तृणमूल कांग्रेस 13-13 सदस्यों के साथ सबसे बड़ी गैर-कांग्रेस-गैर भाजपा पार्टी हैं।
मुंबई: लगातार बारिश से के कई इलाकों में भरा पानी, कई लोकल कैंसिल

24 जुलाई को तमिलनाडु से पांच सीटें खाली होंगी। ये सीपीआई के डी.राजा और अन्नाद्रमुक के के आर अजुर्नन, डॉ. आर लक्ष्मणन, डॉ. वी. मैत्रेयन और टी. रथिनवेल हैं।

मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के विपरीत, एनडीए इस बार राज्यसभा में कम बाधाओं की उम्मीद कर रहा है। राष्ट्रपति के अभिभाषण पर राज्यसभा में अपने भाषण में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि विधेयकों को मंजूरी देने में बाधा डालकर लोगों के जनादेश को नहीं दबाया जाना चाहिए। भाजपा को बीजू जनता दल (5), वाईएसआर कांग्रेस (2) और टीआरएस (6 सदस्य) जैसे दलों से मुद्दा-आधारित समर्थन की उम्मीद

Related Articles

Live TV
Close