फ्लोर टेस्ट से पहले शिवकुमार का बयान- JDS त्याग को तैयार, कांग्रेस से बन सकता है CM

फ्लोर टेस्ट से पहले शिवकुमार का बयान- JDS त्याग को तैयार, कांग्रेस से बन सकता है CM

कर्नाटक में सोमवार को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होना है, लेकिन इससे पहले पूरे सियासी घटनाक्रम में एक नया मोड़ आया है. कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार का कहना है कि जेडीएस सरकार बचाने के लिए किसी भी तरह के त्याग के लिए तैयार है. इतना ही नहीं एचडी कुमारस्वामी की पार्टी कांग्रेस की ओर से किसी को मुख्यमंत्री बनाने के लिए भी तैयार है.
डीके शिवकुमार के मुताबिक, उन्होंने (JDS) ने इसके बारे में हमारे हाईकमान को भी बता दिया है. विश्वास मत पर वोटिंग से पहले डीके शिवकुमार का ये बयान क्या सरकार को बचा पाएगा, इसपर हर किसी की नज़र है.

दरअसल, सोमवार को विधानसभा में फ्लोर टेस्ट होना है ऐसे में अगर बागी विधायक सरकार के पक्ष में वोट नहीं करते हैं तो एचडी कुमारस्वामी की सरकार का ये आखिरी दिन होगा. यही कारण है कि कांग्रेस और जेडीएस की तरफ से सरकार बचाने को लेकर कोशिशें हो रही हैं. ऐसे में कुमारस्वामी के लिए मुख्यमंत्री पद त्याग कर सरकार बचाना आखिरी रास्ता हो सकता है.
गौरतलब है कि जुलाई की शुरुआत में जब कांग्रेस से विधायकों ने इस्तीफा देना शुरू किया तो सरकार पर संकट आ गया. लेकिन कुछ ही दिन बाद जब मान-मनौव्वल का दौर चला तो एक आवाज़ सामने आई थी. जिसमें बागी विधायकों में से 4 MLA का कहना था कि अगर सिद्धारमैया राज्य की कमान संभालते हैं तो वह अपना इस्तीफा देने का फैसला वापस ले सकते हैं और सरकार को समर्थन कर सकते हैं.

बता दें कि बागी विधायकों को हटाकर कांग्रेस-जेडीएस की सरकार के पास 100 का आंकड़ा है, जो बहुमत से दूर है. लेकिन अगर कांग्रेस का मुख्यमंत्री बनाकर बागी विधायक मानते हैं तो सरकार बचने का रास्ता भी साफ हो सकता है.
2018 में जब कर्नाटक में चुनाव हुए तो कांग्रेस बहुमत से दूर रह गई थी, लेकिन BJP को दूर करने के लिए कांग्रेस-JDS साथ आई और कुमारस्वामी का मुख्यमंत्री बनना तय हुआ.
कांग्रेस से आधे विधायक होने के बाद भी मुख्यमंत्री जेडीएस का बना लेकिन कांग्रेस के कुछ मुख्यमंत्रियों को ये रास नहीं आया. बीते एक साल में कई बार ये मांग उठी कि हमारे असली मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ही हैं. लेकिन एचडी कुमारस्वामी और कांग्रेस नेतृत्व की तरफ से हर बार इस मांग को नकारा गया.

WordPress › Error

The site is experiencing technical difficulties.