चंद्रयान 2 आज से ठीक 4 दिन बाद चन्द्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करेगा। इसके साथ ही ISRO दुनिया का पहली रिसर्च एजेंसी बन जाएगी,

चंद्रयान  2 आज से ठीक 4 दिन बाद चन्द्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर लैंड करेगा। इसके साथ ही ISRO दुनिया का पहली रिसर्च एजेंसी बन जाएगी, जिसने सफलतापूर्वक चन्द्रमा के इस अनछुए दक्षिणी ध्रुव पर स्पेस शटल लैंड करवाया हो। ये सिर्फ ISRO की ही नहीं, भारत के लिए भी एक बड़ी उपलब्धि होगी। भारत उन चुनिंदा देशों की लिस्ट में शामिल हो जाएगा, जिसने चांद की सतह पर सॉफ्ट लैंडिग की हो। भारत से पहले अमेरिका, चीन और रूस ने ही सिर्फ सफलतापूर्वक चांद की सतह पर लैंड किया है। चंद्रयान  2 के चांद की सतह पर लैंड करने की घटना पर दुनिया भर के वैज्ञानिकों की पैनी नजर है। चंद्रयान  2 7 सितंबर को रात के 1 बजकर 40 मिनट पर चांद की सतह पर लैंड करेगा।

ISRO से मिली जानकारी के मुताबिक, कल दिन के 1 बजकर 15 मिनट पर चंद्रयान  2 से विक्रम लैंडर अलग हो चुका है। अगले चार दिनों में यह लैंडर चन्द्रमा की सतह पर पहुंच जाएगा। NASA के वैज्ञानिक भी इस घटना पर पैनी नजर बनाए हुए है। NASA अगले 5 साल में अपने अंतरिक्ष यात्री को इसी दक्षिणी ध्रुव पर भेजने की तैयारी में है।

 

चंद्रयान  2 की इस ऐतिहासिक लैंडिंग को प्रधानमंती नरेन्द्र मोदी ISRO के बैंगलूरू स्थित  एंड कमांड नेटवर्क  के कंट्रोल रूम से लाइव देखेंगे। उनके साथ देशभर से चुने हुए 60 बच्चे भी इस इवेंट को लाइव देख सकेंगे। वहीं, National Geographic चैनल पर भी इस ऐतिहासिक इवेंट को लाइव टेलिकास्ट किया जाएगा।

 

 

Related Articles

Live TV
Close