छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के खिलाफ फर्जी जाति प्रमाण पत्र प्राप्त करने के मामले में एफआईआर दर्ज ।

छत्तीसगढ़ के  बिलाशपुर जिले केपुलिस अधिकारी  प्रशांत अग्रवाल ने   पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी के खिलाफ फर्जी जाति प्रमाण पत्र के  मामले में एफआईआर दर्ज किया है   |  वही  भारतीय दंड संहिता के आधार पर  धारा 420, 467, 468 और 471 के तहत केस दर्ज  कर लिया है।यह मामला  वर्ष 2013 के विधानसभा चुनाव के दौरान मरवाही विधानसभा क्षेत्र से भारतीय जनता पार्टी की प्रत्याशी  समीरा पैकरा की शिकायत पर पुलिस ने यह मामला दर्ज किया था ।

पैकर ने जब बिलासपुर के नायब  तहसीलदार पतरस तिर्की से जानकारी ली तो उन्होंने कहा कि मैंने अजीत जोगी का  जाति प्रमाण पत्र जारी नही किया वही अपनी  बात को तिर्की ने  सपथ पत्र  के माध्यम से भी बताया वही पैकरा का कहना है कि अजीत जोगी वर्ष 1967-68 के समय का जाति प्रमाण पत्र का उपयोग करते  है और पैकरा की सिकायत से  उच्च स्तरीय प्रमाणीकरण छानबीन की जाच  समिति बैठी और जाच के अनुसार ही कुछ ही महीने में  जोगी के कवर  आदिवासी होने का प्रमाण पत्र  ख़ारिज कर दिया गया था

हम आपको बता दें कि इससे पहले समीरा पैकरा की शिकायत पर पुलिस ने  अजीत जोगी के पुत्र अमित जोगी को गिरफ्तार किया  था। अमित जोगी अभी जेल में है। । वर्ष 2003 में कांग्रेस जब बीजेपी से हारी तब रमन सिंह राज्य के मुख्यमंत्री बने। अजीत जोगी के पुत्र अमित जोगी को जब कांग्रेस से हटाया  गया था तब जोगी ने नई पार्टी का गठन किया । अभी वह जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के मुखिया हैं तथा मरवाही विधानसभा क्षेत्र से विधायक भी  हैं।

Related Articles

Live TV
Close