खुशखबरी: 25 अगस्त को चलेगी नैनी-दून एक्सप्रेस, रेल मंत्री करेंगे शुभारंभ

खुशखबरी: 25 अगस्त को चलेगी नैनी-दून एक्सप्रेस, रेल मंत्री करेंगे शुभारंभ

राजधानी देहरादून और काठगोदाम के बीच नई एक्सप्रेस ट्रेन के संचालन की सालों पुरानी मांग के पूरे होने की घड़ी आ गई है। 25 अगस्त को काठगोदाम रेलवे स्टेशन से रेल मंत्री पीयूष गोयल वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से दिल्ली से ही नैनी-दून जनशताब्दी एक्सप्रेस का शुभारंभ करेंगे। इस ट्रेन के साथ ही दून और काठगोदाम के मध्य सफर करने वाले यात्रियों के पास एक और ट्रेन का विकल्प हो जाएगा।

राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी नई एक्सप्रेस ट्रेन शुरू करने को लेकर रेल मंत्री से कई बार मुलाकात कर चुके हैं। मंगलवार को उन्होंने रेल मंत्री से मुलाकात कर रेल संचालन के बारे में जानकारी ली। उन्होंने बताया कि मंत्रालय ने रेल संचालन का होमवर्क पूरा कर लिया है। 25 अगस्त को यह ट्रेन जनता को समर्पित होगी। सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत, सांसद भगत सिंह कोश्यारी, राज्यसभा सांसद अनिल बलूनी नैनी-दून एक्सप्रेस को काठगोदाम रेलवे स्टेशन से हरी झंडी दिखाकर रवाना करेंगे। बलूनी के मुताबिक, गढ़वाल और कुमाऊं के लोगों के लिए मोदी सरकार की यह अहम सौगात होगी। उन्होंने रेल मंत्री का आभार प्रकट किया।

सप्ताह में पांच दिन चलेगी ट्रेन
नैनी-दून एक्सप्रेस रविवार और बृहस्पतिवार को छोड़कर सप्ताह में पांच दिन चलेगी।  ट्रेन काठगोदाम से सुबह 6.05 पर देहरादून के लिए रवाना होगी और 12.35 पर देहरादून पहुंचेगी। उसी दिन शाम देहरादून से 4.10 बजे काठगोदाम के लिए चलेगी और रात 11 बजे वहां पहुंचेगी। 

यात्रियों, सैलानियों और उद्यमियों को होगा फायदा  
नैनी-दून एक्सप्रेस ट्रेन संचालन से कुमाऊं और गढ़वाल के यात्रियों, सैलानियों और उद्यमियों को फायदा होगा। अभी तक कुमाऊं और गढ़वाल को जोड़ने के लिए एक ट्रेन है। वह रात को देहरादून से 11 बजकर 35 मिनट पर चलती है। वहां से देहरादून सुबह चार बजे पहुंचती है। 

नई ट्रेन के शुरू होने से नैनीताल हाईकोर्ट के कार्य से जाने वाले यात्रियों को फायदा होगा तो कुमाऊं से राजधानी में शासकीय कार्यों के लिए यात्रियों को आवागमन की नई सुविधा मिलेगी। प्रदेश और दूसरे प्रांतों से नैनीताल और मसूरी की सैर करने वाले पर्यटक भी लाभान्वित होंगे। अभी तक जो ट्रेन चल रही है वह इलाहाबाद से लिंक एक्सप्रेस बनकर आती है। जब वह देहरादून पहुंचती है तो उसी ट्रेन को काठगोदाम बनाकर भेजा जाता है। लेकिन वह घंटों लेट होती है, जिससे यात्रियों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ता है। नई ट्रेन के शुरू होने से यात्रियों को इस परेशानी से भी छुटकारा मिलेगा।

You Might Also Like