पाकिस्तान: मंगलवार को होगा राष्ट्रपति का चुनाव, PTI उम्मीदवार के जीतने की संभावना

पाकिस्तान: मंगलवार को होगा राष्ट्रपति का चुनाव, PTI उम्मीदवार के जीतने की संभावना

इस्लामाबाद: पाकिस्तान में मंगलवार को नये राष्ट्रपति का चुनाव होगा . इस चुनाव में सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ पार्टी के उम्मीदवार के जीतने की संभावना है क्योंकि विपक्ष संयुक्त उम्मीदवार को उतारने में नाकाम रहा है. पाकिस्तान चुनाव आयोग (ईसीपी) ने चुनाव के लिए सोमवार को तैयारियां पूरी कर ली. नेशनल एसेंबली के साथ सभी चार प्रांतीय एसेंबली में मतदान केंद्र बनाए गए हैं. मुख्य निर्वाचन आयुक्त सरदार रजा खान निर्वाचन अधिकारी होंगे. निवर्तमान राष्ट्रपति ममनून हुसैन का कार्यकाल आठ सितंबर को खत्म हो रहा है.

उन्होंने पांच साल के दूसरे कार्यकाल के लिए फिर से चुनाव में उतरने से इनकार किया. तीन उम्मीदवार- सत्तारूढ़ पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के आरिफ अल्वी, पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी के चौधरी एतजाज अहसन और जमीअत-ए-उलेमा (एफ) के प्रमुख मौलाना फजल उर रहमान मुकाबले में हैं. कराची में रहने वाले अल्वी दंतचिकित्सक से नेता बने हैं.

 

पाकिस्तान: राष्ट्रपति चुनाव की रेस में फिलहाल तीन चेहरे, विपक्षी गठबंधन में नहीं बनी बात
पाकिस्तान में 25 जुलाई को हुए आम चुनावों के बाद गठित विपक्षी महागठबंधन एक महीने के भीतर टूट गया क्योंकि इसकी घटक पार्टियां राष्ट्रपति चुनाव के लिए संयुक्त उम्मीदवार पर सर्वसम्मति बनाने में नाकाम रहीं और विपक्ष की ओर से दो उम्मीदवारों ने सोमवार को अपना नामांकन दाखिल किया.

आपको बता दें कि पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी की तरफ से चौधरी ऐतजाज एहसान और जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम (फजल) प्रमुख मौलाना फजलुर रहमान ने 4 सितंबर को होने वाले राष्ट्रपति चुनाव के लिए उम्मीदवारी दाखिल की है. इन दोनों के अलावा पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) की तरफ से डॉ. आरिफ अलवी ने भी नामांकन किया है.

जरदारी और जेयूआई-एफ में हुई बातचीत
खबर के मुताबिक बाद में सोमवार शाम को, जेयूआई-एफ ने पूर्व राष्ट्रपति आसिफ जरदारी से राष्ट्रपति चुनाव में सहयोग की मांग की. पीपीपी के सूत्रों ने डॉन से कहा कि जरदारी ने मौलाना को सूचित किया था कि पार्टी ने मंगलवार (आज) पर एक बैठक बुलाई है जिसमें वे पार्टी के नेताओं के सामने मौलाना के प्रस्ताव को रखेंगे.

पीपीपी ने मीडिया पर लगाया आरोप
वहीं दूसरी ओर पीपीपी ने दावा किया है कि मीडिया ने अन्य विपक्षी दलों से परामर्श करने से पहले एहसान को राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के रूप में पेश करने के लिए पार्टी की आंतरिक बैठक का फैसला लीक किया, जिससे उनके बीच अविश्वास पैदा हुआ. एक समाचार सम्मेलन में बोलते हुए, पीपीपी नेताओं कमर ज़मान कैरा और चौधरी मंजूर अहमद ने कहा कि मीडिया ने गलत तरीके से बताया कि पीपीपी ने एहसान को उम्मीदवार के रूप में नामित किया था.

4 सितंबर को पाकिस्तान में होगा राष्ट्रपति चुनाव
राष्ट्रपति चुनाव के लिए तय कार्यक्रम के अनुसार, 27 अगस्त तक नामांकन पत्र दाखिल किए जा सकते हैं जबकि कागजात की जांच 29 अगस्त को की जाएगी. मतदान 4 सितंबर को इस्लामाबाद में संसद भवन और लाहौर, कराची, पेशावर और क्वेटा में प्रांतीय असेंबली की इमारतों में 10 बजे से शाम 4 बजे तक होगा

You Might Also Like