भाजपा द्वारा दिए गए बयानों को RJD ने किया खारिज

भाजपा द्वारा दिए गए बयानों को RJD ने किया खारिज

पटना : बिहार की राजनीति में इन दिनों लालू परिवार में बगावत की खबर तेज हो गई है. कहा जा रहा है कि राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के दोनों बेटों के बीच सत्ता का संघर्ष जारी है. हाल ही में हुए आरजेडी की अहम मीटिंग में तेजप्रताप यादवके शामिल नहीं होने पर यह चर्चा जोर पकड़ ली. सत्तारूढ़ बीजेपी का कहना है कि आरजेडी के सीनियर नेता खुद को पार्टी में असहाय महसूस कर रहे हैं. वहीं, आरजेडी ने दोनों के बीच मनमुटाव की किसी भी खबर को खारिज कर दिया है.

तेजस्वी और तेजप्रताप पर बिहार सरकार के मंत्री विनोद नारायण झा ने कहा कि लालू परिवार में लालू यादव के दबाव में भले ही दोनों भाई यह बयान दे रहे हों कि वे एक हैं, लेकिन ऐसा नहीं है.

बीजेपी नेता ने कहा, ‘तेजस्वी यादव की मीटिंग में तेजप्रताप नहीं जाते हैं और सिताब दियारा में तेजप्रताप के द्वारा आयोजित पार्टी की पदयात्रा में तेजस्वी नहीं जाते हैं. यह प्रमाण है कि दोनों भाइयों में नहीं बन रही है. आने वाले दिनों में सत्ता संघर्ष में आरजेडी खंड-खंड टूट जाएगी.’ विनोद नारायण झा ने कहा कि आरजेडी में जो भी सीनियर लीडर हैं वे अपने को असहाय महसूस कर रहे हैं और दूसरे दलों में रास्ता तलाश रहे हैं.

बीजेपी के द्वारा तेजप्रताप और तेजस्वी यादव पर निशाना साधने के बाद आरजेडी ने भी पलटवार किया है. आरजेडी का कहना है, ‘दोनों पार्टी के बड़े नेता हैं. दोनों भाइयों में कोई मनमुटाव नहीं है, बल्कि यह विरोधियों की साजिश है. इसे मुद्दा बनाकर चल रहे हैं. पार्टी में सभी किसी को अलग-अलग जिम्मेवारी दी गई है. सभी अपने कार्यों को कर रहे हैं.’ आरजेडी विरोधियों पर मुद्दा विहीन होने का आरोप लगा रही है.

विरोधियों को करारा जवाब देंगे- तेजप्रपात
हालांकि इससे पहले तेजप्रताप यादव ने कहा कि वह लालू यादव की राह पर चल रहे हैं. दोनों भाईयों में किसी तरह का मदभेद नहीं है और न ही किसी तरह का संघर्ष चल रहा है. उन्होंने कहा कि मेरा केवल एक ही लक्ष्य है 2019 का चुनाव जिसके लिए अब ‘जेपी आंदोलन’ के तर्ज पर ‘एलपी मूवमेंट’ करेंगे. तेजप्रताप ने कहा कि कुछ लोग मुझे देखकर जलते हैं. इसलिए उन्हें बदनाम करने की कोशिश कर रहे है. लेकिन हम उन्हें करारा जवाब देंगे.

आरजेडी की बैठक में नहीं शामिल हुए थे तेजप्रताप
गौरतलब है कि बीते बुधवार (12 सितंबर) को आरजेडी की महत्वपूर्व बैठक हुई थी. चुनाव से पहले इस बैठक को काफी अहम माना गया है. वहीं, बिहार की वर्तमान राजनीति में कई मुद्दों पर हवा कुछ अलग ही बह रही है. जिसमें आरक्षण का मुद्दा सबसे अहम है. साथ ही महागठबंधन में सीटों के बंटवारे को लेकर भी आरजेडी की बैठक काफी महत्वपूर्ण थी. ऐसा इसलिए की आरजेडी की इस बैठक में सभी तेजस्वी यादव के साथ सभी सीनियर नेता शामिल हुए थे. इसमें शिवानंद तिवारी, रघुवंश प्रसाद, जगदानंद सिंह जैसे नेता शामिल हुए थे.

वहीं, लालू परिवार से भी तेजस्वी यादव के आलावा राबड़ी देवी और मीसा भारती भी बैठक में शामिल हुए थे. बताया जाता है कि तेजस्वी यादव इस बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे. लेकिन सबसे अहम बात यह थी कि राबड़ी देवी और मीसा भारती शामिल तो हुए थे लेकिन लालू यादव के बड़े बटे तेज प्रताप यादव इस बैठक में शामिल नहीं हुए. जिसे लेकर पारिवारिक संघर्ष और दोनों भाईयों के बीच मतभेद की खबर को एक बार फिर बल मिल गया.

You Might Also Like