प्रदेशबिहार

बिहार: संक्रमित मरीजों की संख्या हुई 63, अब भी लोग दिख रहे लापरवाह

सुपौल, कोरोना संक्रमण के तेजी से बढऩे के बावजूद लोग सचेत नहीं हो रहे हैं। यहां कोरोना के एक्टिव केस हर दिन नये आंकड़े पर पहुंच रहा है। एक्टिव केस आगे बढ़ते हुए 63 पर पहुंच गया है। वहीं शुक्रवार को जांच के दौरान कोरोना के 14 नये मरीज पाये गए। ये मरीज सरायगढ़-भपटियाही प्रखंड में 3, राघोपुर प्रखंड में 2, पिपरा प्रखंड में 1, प्रतापगंज प्रखंड में 1 तथा सुपौल प्रखंड में 7 हैं। मालूम हो कि कोरोना के बढ़ते मामले के बाबत फिलहाल 29 कंटेनमेंट जोन बनाए गए हैं और इसके अलावा भी कंटेनमेंट जोन बनाने की कार्रवाई चल रही है। इस जिले में कोरोना के बढ़ते मामले ने ङ्क्षचता का माहौल पैदा कर दिया है। शुक्रवार को दवाई भी कड़ाई भी की नीति को अपनाते हुए काफी संख्या में शिक्षकों का टीकाकरण किया गया। शिक्षकों के टीकाकरण के चलते सदर अस्पताल के उपर तले पर बने वैक्सीनेशन सेंटर में दिन भर भीड़ देखी गई।

Loading...

गाइड लाइन नहीं हो रहा फॉलो

कोरोना के बढ़ते मामले के बीच इसके गाइड लाइन का कितना फॉलो हो रहा है इस बाबत जब शुक्रवार सुबह दस बजे सुपौल बाजार का मुआयना किया गया तो चौंकाने वाले व दुखद स्थिति देखने को मिली। बाजार में मास्क के प्रयोग की जो स्थिति थी उसे देख ऐसा प्रतीत हो रहा था कि दस में से एक व्यक्ति ही मास्क लगाए हुए हैं। बाजार के लोहिया चौक पर बने पुलिस कैम्प के पास दो दिन से कोरोना के गाइड लाइन के बाबत माइङ्क्षकग के द्वारा अपील की जा रही है लेकिन वहां भी लोग बिना मास्क देखे गए। सोशल डिस्टेंङ्क्षसग तो बाजार में कहीं दिख ही नहीं रहा था।

नहीं दिख रही सख्ती

मास्क नहीं लगाने वालों के विरुद्ध् प्रशासनिक सख्ती कहीं नहीं दिख रही है। मालूम हो कि मास्क नहीं लगाने वालों के लिए 50 रुपये जुर्माने का प्रावधान है लेकिन सुपौल शहर के किसी भाग में बिना मास्क वालों के विरुद्ध् कार्रवाई करते नहीं देखी जा रही है। शुक्रवार की सुबह शहर के लोहिया चौक पर अनुमंडल पदाधिकारी सहित अन्य पदाधिकारी काफी संख्या में पुलिस बल लेकर पहुंचे थे। लोगों को लगा कि मास्क न लगाने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी। मास्क न लगाने वालों के बीच हड़कंप भी मच गया था लेकिन बाद में पता चला कि किसी अन्य कारण से सभी पदाधिकारी पुलिस बल के साथ आये थे।

Loading...
loading...
Tags

Related Articles

Live TV
Close