LIVE TVMain Slideउत्तर प्रदेशदेश

3 दिन के तालाबंदी के बीच यूपी में कड़ी निगरानी :लॉकडाउन

कोविड-19 महामारी के संक्रमण को रोकने के लिए पूरे यूपी में एक बार फिर शुक्रवार रात 10 बजे से 13 जुलाई की सुबह 5 बजे तक लॉकडाउन लागू किया गया है. दिल्ली से सटे गौतमबुद्धनगर और गाजियाबाद जिले का बॉर्डर पहले की तरह सील कर दिए गए हैं.

Loading...

जरूरी सेवाओं से जुड़े लोगों को उनका आईडी कार्ड देखकर पुलिस द्वारा नोएडा और गाजियाबाद में एंट्री की इजाजत दी जा रही है. गौतमबुद्धनगर जिला प्रशासन पास या फिर Covid-19 पास से नोएडा में एंट्री की इजाजत दे रहा है.

पुलिस के जवान नोएडा दिल्ली बॉर्डर पर नाका लगाया है और आने जाने वाली की जांच की जा रही है. जांच के बाद ही आवागमन हो रहा है. इस दौरान एक स्थानीय शख्स ने बताया कि उसने ई-पास अप्लाई करने के लिए यूपी सरकार की बेवसाइट पर कोशिश की थी, लेकिन उसमें पास के लिए ऑप्शन नहीं है. ऐसे में उन्हें परेशानी हो रही है.

वाराणसी में आम दिनों की तरह कम लोग सड़कों पर निकले हैं. जो भी लोग और वाहन सड़कों पर आ रहे हैं पुलिस उनकी चैकिंग कर रही है. लोगों को आईडी कार्ड दिखाने के बाद ही उनके जरूरी कामों के लिए आवाजाही की इजाजत दी जा रही है.

शुक्रवार रात से लॉक़डाउन के चलते यूपी के प्रयागराज में गलियों में सन्नाटा पसरा हुआ है. यहां पर सभी गलियां सुनसान नजर आ रही हैं. हालांकि, सड़कों पर पुलिस के जवान तैनात हैं और कई जगई बैरिकेडिंग भी की गई है. यूपी के मुरादाबाद में भी कुछ ऐसा ही हाल है.यहां भी लॉक़डाउन के चलते सन्नाटा है. लोग घरों से बाहर नहीं निकल रहे हैं.

यूपी के मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी के निर्देशों में कहा गया है कि इस दौरान प्रदेश के समस्त कार्यालय और सभी शहरी व ग्रामीण हाट, बाजार, गल्ला मण्डी, व्यावसायिक प्रतिष्ठान इत्यादि बंद रहेंगे. सरकार ने फैसला किया है कि धार्मिक प्रतिष्ठान खुले रहेंगे.

वहीं इस अवधि में समस्त आवश्यक सेवाएं जैसे स्वास्थ्य एवं चिकित्सकीय सेवाएं, आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति पूर्व की भांति खुली रहेगी. इन सेवाओं में कार्यरत व्यक्तियों, कोरोना वॉरियर, स्वच्छता-कर्मी तथा डोर स्टेप डिलीवरी से जुड़े व्यक्तियों के आने-जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं होगा.

Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV