CM योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा में सेंध : एनेक्सी गेट के सामने कमर में चाकू लगाकर पढ़ी नमाज

CM योगी आदित्यनाथ की सुरक्षा में सेंध : एनेक्सी गेट के सामने कमर में चाकू लगाकर पढ़ी नमाज

सिरफिरे मौलाना के कल देर शाम मुख्यमंत्री सचिवालय के सामने नमाज पढऩे की चौंकाने वाली घटना सामने आई है। इस प्रकरण के बाद पुलिस मामले में केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है। मौलाना को भी गिरफ्तार किया गया है। 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ  एनेक्सी के पंचम तल पर शुक्रवार देर शाम आलाधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। इसी बीच हरी पगड़ी बांधे बुजुर्ग ने कड़ी सुरक्षा को धता बताते हुए एनेक्सी के सामने सड़क पर चादर बिछाकर नमाज पढ़ने लगा। नमाज पढ़ने के बाद उसने योगी-मोदी के खिलाफ नारेबाजी करके हंगामा किया और चला गया। इस दौरान सीएम आफिस पर तैनात पुलिसकर्मी उसकी वीडियो क्लिप बनाते रहे। घटना से चौराहे पर भीषण जाम लग गया। एनेक्सी के सामने बीच सड़क पर नमाज पढऩे और प्रधानमंत्री, मुख्यमंत्री को अपशब्द कहने के आरोप में एक शख्स को गिरफ्तार कर लिया गया है। इस मामले में पुलिस ने रफीक अहमद नाम के शख्स को गिरफ्तार किया है। बताया जा रहा है कि रफीक ने देर शाम एनेक्सी के सामने बीच सड़क पर नमाज पढ़ी। इसके साथ ही इस शख्स ने मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री के खिलाफ नारेबाजी की। क्लिप सोशल मीडिया पर वायरल होने पर हड़कंप मच गया। एसएसपी ने इस मामले में दो सिपाहियों को निलंबित कर दिया है। इस बीच एनेक्सी के गेट नंबर एक के पास सड़क पर एक सिरफिरा वृद्ध नमाज पढऩे लगा।

खास बात यह है कि वह दायीं ओर कमर में चाकू भी लगाए था। चौराहे के आस पास खड़े पुलिस कर्मी देखते रहे और कुछ देर बाद वह उठा और स्कूटी स्टार्ट कर चला गया। सूचना पर हजरतगंज पुलिस ने सीसी कैमरों से वीडियो निकाला। एसएसपी के निर्देश पर आरोपित के खिलाफ एफआइआर दर्ज कराई गई, जिसे देर रात गिरफ्तार कर लिया गया। सचिवालय के सामने से गुजरने वालों के लिए यह काफी चौंकाने वाला वाकया था।

एक शख्स को शाम को बीच सड़क पर नमाज पढ़ते देख लोगों ने अपनी गाडिय़ां रोक दी और जब वह नमाज पढ़कर अपनी गाड़ी लेकर भागा तब लोगों ने अपनी गाडिय़ां बढ़ाई। इस घटना के वक्त मुख्यमंत्री सचिवालय (एनेक्सी) में अधिकारियों की बैठक ले रहे थे। सुरक्षा के लिहाज से चौंकने वाली बात ये थी कि कमर में चाकू लगाए यह शख्स सड़क जाम कर नमाज पढ़ता रहा और पुलिस ने उसे रोका तक नहीं। लखनऊ पुलिस ने इस घटना के बाद मामला दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

लखनऊ में कल शाम मुख्यमंत्री सचिवालय के समाने एक अजीबो-गरीब दृश्य देखने को मिला। यहां सचिवालय एनेक्सी के सामने शाम करीब सात बजे हरी पगड़ी लगाए एक शख्स अपनी स्कूटी से आकर रुका। इसके बाद इस शख्स ने भीड़भाड़ के बीच सचिवालय के गेट नंबर एक के सामने पहले पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ के खिलाफ काफी देर अपशब्द कहे और फिर वहीं पर नमाज पढ़ी।

प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक लाल रंग की स्कूटी पर ऐशबाग निवासी आरोपित रफीक अहमद शुक्रवार शाम एनेक्सी गेट नंबर एक के पास पहुंचा। वह स्कूटी को सड़क किनारे खड़ी कर बीच सड़क दरी बिछाकर नमाज पढऩे लगा। खास बात यह है कि इस दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एनेक्सी में आलाधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। इस बीच उसने केंद्र सरकार विरोधी नारे भी लगाए। घटना से चौराहे पर भीषण जाम लग गया। कई अधिकारी और राजनेता जाम में फंस गए। देखते-देखते सड़क पर वाहनों की लंबी कतारें लग गई। बीच चौराहे के आसपास पुलिस कर्मी भी तैनात थे। इसके बाद वह उठा और अपनी स्कूटी स्टार्ट कर चला गया, जिसे देर रात पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया।

लापरवाही बरतने वाले दो सिपाही निलंबित, लगा भीषण जाम
नमाज पढ़ने के दौरान आरोपित ने सरकार और पीएम विरोधी नारे भी लगाए, लेकिन पुलिसकर्मियों ने कोई कार्रवाई नहीं की। नतीजा यह निकला कि चौराहे पर भीषण जाम लग गया। कई अधिकारी और नेता भी जाम में फंस गए। इस बीच आरोपित स्कूटी लेकर मौके से निकल गया। मामले में लापरवाही बरतने के आरोप में एसएसपी कलानिधि नैथानी ने दो सिपाहियों को निलंबित कर दिया है।

सीएम की सुरक्षा में चूक
इस घटना से पुलिस और एलआइयू दोनों की कार्यशैली पर सवाल खड़े कर दिए हैं। मुख्यमंत्री के एनेक्सी में होने पर वहां कड़ी सुरक्षा के साथ ही खुफिया विभाग के लोग सादे कपड़ों में मौजूद रहते हैं। बावजूद इसके सुरक्षा कर्मियों को धता बताते हुए सिरफिरा कमर में चाकू लगाए गेट नंबर एक के पास बखेड़ा खड़ा करके निकल गया। सिरफिरे की हरकत देखकर भी आस पास लगे सुरक्षाकर्मी उसे रोक भी नहीं पाए।

ईदगाह के बाहर भी सड़क पर पढ़ी थी नमाज
बताया जा रहा है कि आरोपित गुरुवार को ऐशबाग ईदगाह के बाहर भी पहुंचा था। वहां भी वह सड़क पर दरी बिछाकर नमाज पढऩे लगा था। जिसके चलते भीषण जाम लगा था। जानकारी के बावजूद पुलिस ने इस बाबत छानबीन करने की कोशिश नहीं की थी।

 

You Might Also Like