पांच लोगों के हत्‍या कर अब भी फरार, आज फिर बंद का आह्वान:असम

पांच लोगों के हत्‍या कर अब भी फरार, आज फिर बंद का आह्वान:असम

 असम के तिनसुकिया जिले में एक ही परिवार के पांच लोगों की हत्‍या में शामिल लोगों को पकड़ने की मांग को लेकर शनिवार को दूसरे दिन भी असम बंद का आह्वान किया गया है. यह बंद कई बंगाली संगठनों ने किया है. इसके तहत शनिवार को गुवाहाटी में बाजार बंद हैं और बड़ी संख्‍या में पुलिस बल तैनात किया गया है.

वहीं पुलिस ने संदेह जताया था कि बंदूकधारी उल्फा (इंडीपेंडेंट) गुट के थे, लेकिन संगठन ने अपनी संलिप्तता से इनकार कर दिया. हमलावरों के एक समूह ने गुरुवार को रात करीब आठ बजे छह लोगों को खेरोनिबाड़ी गांव में बुलाया था. इसके बाद वे उन्हें इलाके में धोला सदिया पुल लेकर गए और उन पर अंधाधुंध गोलियां चला दी. इनमें से पांच की मौके पर ही मौत हो गई. इनमें से एक पुल से गिर गया और गोलीबारी से बच गया था.

दो उल्‍फा नेता गिरफ्तार
असम में शुक्रवार को बातचीत के समर्थक दो उल्फा नेताओं को उनकी “भड़काऊ टिप्पणी” के लिए गिरफ्तार किया गया. तिनसुकिया जिले में पांच लोगों की हत्या में शामिल लोगों को पकड़ने के लिए ‘‘व्यापक खोज अभियान’’ चलाया गया. इस बीच मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने राजनीतिक दलों के “नफरती भाषणों” को हत्याओं का जिम्मेदार ठहाराया. 

मृतक आश्रितों को मुआवजा और नौकरी
असम सरकार ने मारे गए लोगों के परिजनों को 5 लाख रुपये के मुआवजे और एक परिजन को नौकरी का ऐलान किया. पुलिस ने हमलावर बंदूकधारियों के उल्फा (इंडिपेंडेंट) से जुड़े होने का संदेह जताया है. हालांकि उग्रवादी संगठन के “जनसंपर्क विभाग” के सदस्य रोमल एसोम ने ईमेल से एक बयान जारी कर गुरुवार की घटना में शामिल होने से इनकार किया है. 

विरोध मार्च निकाला
पड़ोसी राज्य पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने बांग्लाभाषी पांच लोगों की हत्या के विरोध में मार्च निकालकर अदालत की निगरानी में जांच की मांग की. पार्टी ने असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल के इस्तीफे की भी मांग की. वाम दलों ने भी हत्याओं के विरोध में कोलकाता में विरोध प्रदर्शन किया.

ममता ने जताया दुख
पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने घटना पर क्षोभ प्रकट करते हुए कहा कि असम के एक गांव में निर्दोष और गरीब लोगों की मौत की घटना से मेरा मन दुख से भर गया है. उन्होंने टि्वटर पर प्रदर्शित तस्वीर को हटाते हुए उस स्थान को काला छोड़ दिया है. टीएमसी ने इस हमले को राष्ट्रीय नागरिक पंजी से जोड़ते हुए उसका परिणाम बताया है.

एक व्‍यक्ति बच गया था
असम पुलिस के अनुसार हमलावरों के एक समूह ने गुरुवार को रात करीब आठ बजे खेरोनिबाड़ी गांव के छह लोगों को बाहर निकाला. इसके बाद वे उन्हें इलाके में धोला सदिया पुल लेकर गए और उन पर अंधाधुंध गोलियां चला दीं जिनमें से पांच की मौके पर ही मौत हो गई. इनमें से एक पुल से गिर गया और गोलीबारी से बच गया.

बेहोश हो गया था
घटना में बचे इकलौते व्यक्ति की सहदेव नामसुद्र ने शुक्रवार सुबह पत्रकारों को बताया कि वह ‘‘सौभाग्य से बच’’ गया क्योंकि वह पुल के किनारे से गिर गया जहां बंदूकधारियों ने छह लोगों को खड़ा किया और उन्हें गोली मार दी. हालांकि उसे चोटें नहीं आईं लेकिन वह डर से बेहोश हो गया था. सहदेव ने दावा किया होश में आने पर उसने पाया कि पांच लोगों में से एक अब भी जिंदा है लेकिन कोई मदद मिलने से पहले ही उसकी मौत हो गई.

सख्‍त कार्रवाई का आश्‍वासन
‘‘निर्दोष लोगों की हत्या’ की निंदा करते हुए सोनोवाल ने कहा, ‘‘इस नृशंस हिंसा के दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी. हम ऐसे कायरतापूर्ण कृत्यों को बर्दाश्त नहीं करेंगे.’’ गुवाहाटी में उन्होंने कहा कि इस स्थिति के लिए मैं राजनीतिक दलों, संगठनों, समाचार माध्यमों, सोशल मीडिया के एक धड़े की भड़काऊ बयानबाजी को जिम्मेदार मानता हूं. 

दो उल्‍फा नेता गिरफ्तार
पुलिस महानिदेशक कुलधर सैकिया ने कहा, ‘‘आरोपियों को पकड़ने के लिए अनेक अभियान चलाए गए हैं. बातचीत समर्थक उल्फा नेता जीतेन दत्ता और मृनाल हजारिका को उनके भड़काऊ बयानों के लिए गिरफ्तार किया गया है. हत्याओं में उल्फा गुट की संलिप्तता के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने कहा, ‘‘ऐसे ही कोई नाम नहीं ले सकते. हम कानून के अनुसार कार्रवाई करेंगे.

पूरे असम में राजनीतिक दलों और संगठनों ने हत्याओं की निंदा करते हुए दोषियों को तुंरत पकड़ने की मांग की. हमले के खिलाफ ऑल असम बंगाली फेडरेशन ने शुक्रवार को बंद आहूत किया. पुलिस ने बताया कि सड़कों से वाहन नदारद हैं और दुकानें बंद हैं. सुबह तक किसी अप्रिय घटना की खबर नहीं है. सत्तारूढ़ भाजपा ने कहा कि यह घटना कांग्रेस पार्टी के एनसीआर और नागरिकता विधेयक को लेकर लगातार दिए जा रहे भड़काऊ बयानों का परिणाम है.

बीजेपी नेताओं के दावों पर निशाना साधते हुए कांग्रेस नेता और पूर्व मुख्यमंत्री तरुण गोगोई ने कहा कि सोनोवाल सरकार राज्य में कानून व्यवस्था की स्थिति को बनाए रखने में विफल है. उन्होंने गुरुवार को हुई घटना की सीबीआई जांच की मांग की.

You Might Also Like