दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज पर देखने को मिली ‘डर्टी पिक्चर्स

दिल्ली के सिग्नेचर ब्रिज पर देखने को मिली ‘डर्टी पिक्चर्स

अपने विशिष्ट डिजाइन और खूबियों की वजह से देश के साथ दुनिया में भी पहचान बनाने वाला दिल्ली का सिग्नेचर ब्रिज अब कुछ लोगों की ‘करतूतों’ से बदनाम हो रहा है। सिग्नेचर ब्रिज पर बीच सड़क वाहन पार्क कर सेल्फी लेने की घटनाएं लगातार सामने आ रही थीं, लेकिन इस बीच सिग्नेचर ब्रिज पर किन्नरों के निर्वस्त्र होने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ है। यह मामला सामने आने के बाद पुलिस ने सार्वजनिक स्थान पर अश्लील हरकत करने का प्रकरण दर्ज किया है।

घटना के कथित वीडियो में साफ दिखाई दे रहा है कि किन्नर सिग्नेचर ब्रिज पर अपने कपड़े उतार रहे हैं और डांस कर रहे हैं, वहीं राहगीर उन्हें देख रहे हैं। इस दौरान उन्हें टोकने की कोई हिम्मत नहीं दिखा रहा है। यहां तक कि किसी ने पुलिस को फोन करना तक जरूरी नहीं समझा। वहीं, अधिकारी ने कहा कि पुलिस कथित घटना की सटीक तारीख का पता लगाने की कोशिश कर रही है। 

यह है पूरा मामला

सिग्नेचर ब्रिज पर कुछ किन्नरों ने शर्मसार करने वाली हरकत की। एक वीडियो तेजी से सोशल नेटवर्किंग साइटों पर वायरल हो रहा है। इस में चार किन्नर कपड़े उतारकर एक-दूसरे से लिपटते और नाचते नजर आ रहे हैं। वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने टिप्पणी से इऩकार कर दिया। वहीं, पुलिस सूत्रों का कहना है कि वीडियो से किन्नरों की पहचान की जा रही है। बताया जा रहा है कि वीडियो एक-दो दिन पुराना है।

सिग्नेचर ब्रिज पर भारी पड़ रही सेल्फी

अपने मॉडल से दिल्ली को नई पहचान दिला चुके सिग्नेचर ब्रिज पर बीच सड़क वाहन पार्क कर सेल्फी लेना लोगों को भारी पड़ने लगा है। लोग अपने निजी वाहनों से यहां पहुंचकर सेल्फी लेने में मशगूल हो जाते हैं। इस बीच वे अपने वाहन सड़क पर ही इधर-उधर पार्क कर देते हैं, जिससे पुल पर जाम की स्थिति बनी रहती है।

ब्रिज के दोनों ओर यही हाल रहता है। इसलिए ट्रैफिक पुलिस ने जाम से निपटने के लिए अभियान शुरू किया है। इस दौरान ब्रिज पर जो भी अज्ञात वाहन नजर आता है, ट्रैफिक पुलिस क्रेन के माध्यम से उठाकर ले जाती है और फिर चालान करती है। यानी एक कार के टो होने पर वाहन मालिक को करीब 1100 रुपये का भुगतान करना पड़ता है।

रेहड़ी-पटरी वालों का भी कब्जा

उद्घाटन के बाद पर्यटन स्थल के रूप में उभरे सिग्नेचर ब्रिज पर प्रतिदिन बड़ी संख्या में लोगों के पहुंचने के कारण आसपास के इलाकों में रहने वाले रेहड़ी-पटरी वालों ने कब्जा कर लिया है। ब्रिज पर बीड़ी-सिगरेट, गुटखा, कचौड़ी आदि के विक्रेता दुकान सजा रहे हैं। इसलिए ब्रिज पर हमेशा गंदगी का आलम रहता है।

जानें- सिग्नेचर ब्रिज की खूबियां

यहां पर बता दें कि इसी महीने 4 नवंबर को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सिग्नेचर ब्रिज का तोहफा दिया है। यमुना नदी पर बने सिग्नेचर ब्रिज पर 154 मीटर ऊंचा ग्लास बॉक्स लगा है, जहां से राजधानी को निहारा जा सकता है। 1,594 करोड़ रुपये की लागत से बने इस ब्रिज की लंबाई 575 मीटर है। इस ब्रिज की घोषणा 2004 में हुई थी। 14 साल बाद तैयार हुए इस ब्रिज पर सेल्फी स्पॉट्स भी हैं। ब्रिज पर 19 स्टे केबल्स हैं, जिन पर ब्रिज का 350 मीटर भाग बगैर किसी पिलर के रोका गया है। पिलर के ऊपरी भाग में चारों तरफ शीशे लगाए गए हैं। सिग्नेचर ब्रिज को पर्यटन का केंद्र बनाने के लिए आसपास के क्षेत्र में सौंदर्यीकरण किया गया है। करीब 1.8 किमी लंबे इस ब्रिज का 575 मीटर व 251 मीटर क्षेत्र केबल पर आधारित है। इस ब्रिज के दोनों ओर चार-चार लेन की सड़क होगी। इस ब्रिज के मध्य में 154 मीटर का पिलर है। पिलर में ही लिफ्ट की व्यवस्था की गई है। रात के समय सुंदरता बढ़ाने के लिए मुख्य पुल में स्ट्रीट लाइटिंग व हाई मास्ट लाइटिंग की गई है।

You Might Also Like