EVM ठीक होने के बाद केंद्रीय राज्‍य मंत्री मेघवाल ने डाला वोट

EVM ठीक होने के बाद केंद्रीय राज्‍य मंत्री मेघवाल ने डाला वोट

राजस्‍थान की 199 विधानसभा सीटों के लिए आज (शुक्रवार) 8 बजे से मतदान शुरू हो गया है. इस बार 2,274 उम्‍मीदवार चुनावी मैदान में अपनी किस्‍मत आजमा रहे हैं. राज्य में 20 लाख से अधिक मतदाता पहली बार वोट डालेंगे. राजस्‍थान की 199 सीटों पर सुबह 11 बजे तक 21.89 फीसदी मतदान हुआ है.

वहीं बीकानेर के मतदान केंद्र संख्‍या 172 पर वोट डालने पहुंचे केंद्रीय राज्‍य मंत्री अर्जुनराम मेघवाल को ईवीएम खराब होने के कारण परेशानी का सामना करना पड़ा. उन्‍हें करीब 2 घंटे से भी अधिक समय तक मतदान केंद्र के बाहर लाइन में खड़े होकर ईवीएम ठीक होने का इंतजार करना पड़ा. हालांकि बाद में यहां ईवीएम को बदल दिया गया है. उसमें कुछ तकनीकी खामी आने के कारण मतदान नहीं हो पा रहा था. इसके बाद मेघवाल वोट डाल पाए.  

कई मतदान केंद्रों पर ईवीएम में खराबी के कारण परेशानी का सामना करना पड़ रहा है. मुख्‍यमंत्री वसुंधरा राजे ने झालावाड़ के मतदान केंद्र संख्‍या 31ए पर पहुंचकर वोट डाला. इसके बाद उन्‍होंने कहा कि राजस्‍थान के लोगों ने हमारे काम को देखा है. मुख्‍यमंत्री वसुंधरा राजे ने मतदाताओं से वोट डालने की अपील की. उन्‍होंने कहा कि हमने प्रदेश के विकास के लिए काम किया. कांग्रेस नेताओं ने महिलाओं का अपमान किया है. राजस्‍थान महिलाओं का अपमान बर्दाश्‍त नहीं करेगा.

वहीं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी राजस्‍थान के लोगों से वोट डालने की अपील की है. उन्‍होंने कहा ‘राजस्थान में आज मतदान का दिन है. राज्य के सभी मतदाताओं से मेरा आग्रह है कि वे पूरे उत्साह के साथ लोकतंत्र के महापर्व में अवश्य भाग लें और भारी संख्या में मतदान करें.’

नेताओं ने डाले वोट

केंद्रीय मंत्री राज्‍यवर्धन सिंह राठौर ने भी अपने मताधिकार का प्रयोग किया. उन्‍होंने जयपुर के वैशाली नगर के पोलिंग बूथ संख्‍या 252 पर जाकर वोट डाला. वोट डालने जाने से पहले उन्‍होंने कहा कि चुनाव में नेतृत्‍व बहुत महत्‍वपूर्ण होता है. बीजेपी ने सत्‍ता की नहीं, विकास की राजनीति की है. राष्‍ट्रीय मुद्दे चुनाव पर असर डालते हैं. वहीं बीजेपी छोड़कर भारत वाहिनी पार्टी बनाने वाले घनश्‍याम तिवाड़ी ने भी वोट डाला. उन्‍होंने कहा कि राजस्‍थान की जनता सीएम वसुंधरा राजे से नाराज है. 

ईवीएम खराबी की शिकायत

वहीं जयपुर के सिविल लाइंस के बूथ नंबर 249 और 142 पर ईवीएम खराब होने की खबर है. सांगानेर, बस्‍सी, किशनपोल, मालवीय नगर, झोटवाड़ा और विद्याधर नगर में भी ईवीएम में खराबी दर्ज की गई है. बागरू में भी दो जगह ईवीएम में खराबी सामने आई है. राजस्‍थान के जालोर में भी पोलिंग बूथ संख्‍या 253 और अहोर के बूथ संख्‍या 254 पर भी ईवीएम खराबी की शिकायत सामने आई है. राजस्‍थान के गृह मंत्री गुलाब चांद कटारिया ने भी उदयपुर में वोट डाला. इससे पहले उन्‍होंने उदयपुर के शिव मंदिर में पहुंचकर पूजा-अर्चना की. 

सुरक्षा व्‍यवस्‍था पुख्‍ता की गई

शुक्रवार को हो रहे मतदान के लिए दो लाख से ज्यादा ईवीएम और वीवीपैट मशीनों का इस्तेमाल किया जाएगा. ईवीएम के साथ-साथ पूरे राज्य में वीवीपैट मशीनों का उपयोग पहली बार हो रहा है. मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार के अनुसार राज्य में स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने के लिए सभी तैयारियां पूरी हैं. मतदान निष्पक्ष तथा शांतिपूर्ण ढंग से करवाने का जिम्मा 1,44,941 जवानों पर होगा जिनमें केंद्रीय सुरक्षा बलों की 640 कंपनियां शामिल हैं. राज्य में कुल 387 नाके और चेक पोस्ट लगाए गए हैं.

पहली बार वोट देंगे 20 लाख युवा

उन्होंने बताया कि 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए कुल 4,74,37,761 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे. इनमें 2,47,22,365 पुरुष तथा 2,27,15,396 महिला मतदाता है. इनमें से पहली बार मतदान कर रहे युवा मतदाताओं की संख्या 20,20,156 हैं. राज्य के 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों से कुल 2,274 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. इंडियन नेशनल कांग्रेस से 194, भारतीय जनता पार्टी से 199 उम्मीदवार, बहुजन समाज पार्टी से 189, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से 01, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से 16 एवं मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी से 28 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं जबकि 817 गैर मान्यता प्राप्त दलों के प्रत्याशी एवं 830 निर्दलीय उम्मीदवार हैं.

1 सीट पर मतदान नहीं

राजस्थान में विधानसभा की कुल सीटों की संख्या 200 है लेकिन एक सीट पर चुनाव स्थगित कर दिया गया है. कुमार ने बताया कि अलवर जिले के रामगढ़ विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह का 29 नवम्बर को निधन हो गया है. वहां का चुनाव स्थगित कर दिया गया है.

विशेष व्‍यवस्‍थाएं की गईं

राज्य के चार लाख से ज्यादा दिव्यांगजनों के लिए विशेष सुविधा की गई है. उनको मतदान के लिए घर से लाने की व्यवस्था की गई है. 259 मतदान केंद्रों का जिम्मा महिलाओं के हवाले होगा जहां मतदान दलकर्मी, सुरक्षाकर्मी इत्यादि सभी महिलाएं होंगी. इस बीच विभाग को सी-विजिल एप से अब तक 3,784 से अधिक शिकायतें मिलीं जिनमें से 3,098 शिकायतें सही पाई गई है.

2,274 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं. इसमें बीजेपी, कांग्रेस के साथ ही बसपा, माकपा, समाजवादी पार्टी, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी के प्रत्याशी प्रमुख रूप से शामिल हैंख्‍. इसके साथ ही स्थानीय दलों में चुनाव से ठीक पहले बनी भारत वाहिनी पार्टी, राष्ट्रीय लोकतांत्रिक पार्टी और जमींदारा पार्टी जैसे कई दल चुनाव मैदान में हैं. हालांकि अधिकांश सीटों पर कांग्रेस और बीजेपी में आमने-सामने का मुकाबला है. लेकिन कई सीटों पर त्रिकोणीय और चतुष्कोणीय मुकाबला भी बन रहा है. तकरीबन 72 सीटों पर दूसरे प्रत्याशियों ने चुनावी मुकाबले में रोचक स्थिति बनाई है.