LIVE TVMain Slideदेशस्वास्थ्य

जाने क्या होते है डिप्रेशन के लक्षण

कॉम्‍पिटिशन की दौड़ में तेजी से भागती दुनिया में स्‍ट्रेस और एंजायटी एक आम समस्‍या बनती जा रही है. लोग किसी भी समय खुद को तनाव से दूर नहीं रख पा रहे हैं.

Loading...

कोरोना महामारी के दौर में तो तनाव और डर का माहौल कम उम्र के युवाओं में भी देखने को मिल रहा है. यह ना केवल मानसिक स्वास्थ्य बल्कि शारीरिक स्वास्थ्य को भी प्रभावित कर रहा है.

घर के अंदर रहने की मजबूरी और चारों तरफ से आ रही नकारात्‍मक खबरों ने तनाव को और अधिक बढाने का काम किया है. ऐसे में परेशान होने की बजाय अगर आयुर्वेद में बताई गई बातों को फॉलो किया जाए तो हमें जल्द ही तनाव से मुक्ति मिल सकती है. तो आइए जानते हैं कि तनाव से राहत पाने के लिए क्‍या करें.

अगर तनाव और चिंता को दूर करना है तो सबसे पहले यह तय कर लें कि आप लाइफ की रफ्तार को थोड़ा धीमा करें. दरअसल फास्‍ट लाइफस्‍टाइल हमें अधिक तनाव और मेंटली परेशान करती है. ऐसे में खुद के लिए समय निकालें और रफ्तार के चक्‍कर में ना पड़ें. कभी-कभी ठहराव जरूरी होता है.

जब आप खुद के लिए समय निकालना सीख जाएंगे तो आप मानसिक रूप से बेहतर महसूस करेंगे. ऐसे में आप आराम करें. रात को 8 से 9 घंटे की नींद लें और मानसिक और शारीरिक तौर पर रिलेक्‍स करें.

अगर आप रोज सोने से पहले अपने पैरों पर बादाम ऑयल या नारियल के तेल से मालिश करें तो आप बेहतर और गहरी नींद में सो पाएंगे. यही नहीं, इससे आपके शरीर में रक्त का संचार भी बेहतर होगा और आप मानसिक रूप से भी शांति महसूस करेंगे और तनाव कम होगा.

तनाव दूर करने के लिए शांति जरूरी है. इसके लिए आप स्‍लो म्‍यूजिक सुनें, ध्‍यान और प्राणायाम आदि करें. आपको घंटे भर में अंतर महसूस होगा.

संतुलित और सही पोषण मानसिक सेहत के लिए भी बहुत जरूरी है. ऐसे में आप वीक में एक दो दिन सात्विक खाना खाएं और एक दिन व्रत करें. इसके अलावा अनहेल्‍दी भोजन को ना करें.

Loading...
loading...

Related Articles

Back to top button
Live TV