प्रदेशबिहार

बिहार: जदयू ने कही बड़ी बात-केंद्र में भाजपा तो बिहार में जदयू है एनडीए का बड़ा भाई

जदयू के राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी ने कहा है कि जदयू चाहता है कि अगला लोकसभा चुनाव बिहार में एनडीए नीतीश के नेतृत्व में लड़े। नीतीश के चेहरे का एनडीए अधिक से अधिक लाभ उठाए। दिल्ली में जिस प्रकार भाजपा बड़े भाई की भूमिका में है, बिहार में जदयू बड़ा भाई है।

Loading...

जदयू के राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने रविवार को पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ आगामी चुनावों और विशेष दर्जा जैसे मुद्दों पर विमर्श किया। बैठक में पार्टी के प्रधान राष्ट्रीय महासचिव केसी त्यागी, राष्ट्रीय महासचिव पवन वर्मा और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर मौजूद थे।
करीब चार घंटे तक 1, अणे मार्ग में राष्ट्रीय अध्यक्ष ने हम लोगों से विमर्श किया। उन्होंने कई सुझाव भी दिए। त्यागी ने कहा कि एनडीए में बवाल का कृत्रिम माहौल बनाया जा रहा है। ऐसी कोई बात नहीं है। बिहार में एनडीए एकजुट है। 
हम चाहते हैं कि बिहार में एनडीए नीतीश कुमार के नेतृत्व का अधिक से अधिक लाभ उठाए। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि चुनाव से पहले सीटों के तालमेल को लेकर कोई अड़चन नहीं आएगी। तालमेल में जदयू को सम्मानजनक संख्या में सीटें मिलेंगी। हालांकि सीटों को लेकर बैठक में कोई चर्चा नहीं हुई है। 

तेज होगी विशेष दर्जा की मुहिम 
प्रधान राष्ट्रीय महासचिव ने बताया कि विशेष दर्जा पर अभियान तेज करने का फैसला लिया गया है। इसके लिए पार्टी रणनीति बनाएगी। रणनीति बनाने के लिए नीतीश कुमार ने मुझे, पवन वर्मा और राष्ट्रीय महासचिव हरिवंश नारायण सिंह को जिम्मेदारी सौंपी है। 
विशेष दर्जा को लेकर जदयू पिछले कई सालों से लगातार मुहिम चला रहा है। बीच में यह अभियान रूक गया था, जिसे पार्टी ने दोबारा शुरू किया है। पार्टी 15वें वित्त आयोग के समक्ष भी इस मुद्दे को लेकर बिहार का पक्ष रखेगी। आयोग की टीम जुलाई के दूसरे सप्ताह में बिहार आएगी।

तीन राज्यों में चुनाव लड़ेगी पार्टी 
यह भी फैसला हुआ कि जदयू इस साल राजस्थान, मध्य प्रदेश एवं छत्तीसगढ़ में होने वाले विधानसभा चुनावों में अपने उम्मीदवार उतारेगा। पार्टी चुनिंदा सीटों पर प्रत्याशी खड़े करेगी। त्यागी ने कहा कि हम किसी को हराने या जिताने के लिए नहीं, बल्कि अपनी उपस्थिति दर्ज कराने के लिए उम्मीदवार उतारेंगे।

इन राज्यों में हम अपनी पहचान बनाना चाहते हैं। इसके साथ ही पूर्वोत्तर के राज्यों में पार्टी की सक्रियता बढ़ाने का भी फैसला लिया गया है। उन्होंने हाल में हुए उपचुनावों पर टिप्पणी करते हुए कहा कि यूपीए की जीत पानी का बुलबुला है। यह टिकेगा नहीं, तुरंत ही खत्म हो जाएगा। आने वाले चुनावों पर इसका कोई असर नहीं होगा। 
बिहार में एनडीए एकजुट है और आगामी चुनाव में हमें जनता को बेहतर समर्थन मिलेगा। पवन वर्मा ने कहा कि संगठन मजबूत करने पर भी बैठक में चर्चा हुई है। पार्टी की यह अंदरूनी बैठक थी जिसमें आगे की रणनीति पर विमर्श हुआ है। 

Loading...
loading...

Related Articles

Live TV
Close