LIVE TVMain Slideदेशस्वास्थ्य

10 जून यानि की कल लगेगा साल का पहला सूर्य ग्रहण

हिंदू कैलेंडर के अनुसार, ज्येष्ठ मास की अमावस्या को साल 2021 का पहला सूर्य ग्रहण लगने जा रहा है. अंग्रेजी कैलेंडर के अनुसार, यह अमावस्या तिथि 10 जून, 2021 को होगी और इसी दिन सूर्य ग्रहण भी लगेगा.

Loading...

ज्योतिष गणनाओं के अनुसार इस सूर्य ग्रहण का सूतक काल मान्य नहीं है, क्योंकि यह ग्रहण भारत में नहीं दिखाई देगा. इसलिए भारत में सूर्य ग्रहण के दौरान धार्मिक कार्यों पर कोई भी मनाही नहीं है.

इसके बावजूद सूर्य ग्रहण के दौरान कुछ लोगों के लिए कुछ कार्य वर्जित होते हैं, खासकर गर्भवती महिलाओं के लिए. आइये जानें सूर्यग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को किन कार्यों / किन विशेष बातों का ध्यान रखना शुभ होता है?

धार्मिक मान्यताओं एवं जनश्रुतियों के अनुसार, किसी भी ग्रहण {सूर्य ग्रहण /चंद्र ग्रहण} का सबसे अधिक प्रभाव गर्भवती महिलाओं पर पड़ता है. इस दौरान गर्भवती महिलाओं द्वारा किये गए कुछ काम से मां और बच्चों दोनों के स्वास्थ्य पर बुरा प्रभाव पड़ता है. आइए जानते हैं कि सूर्य ग्रहण के समय गर्भवती महिलाओं को किन बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए.

  • सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को नंगी आंखों से सूर्य ग्रहण को बिलकुल नहीं देखना चाहिए. मान्यता है कि ऐसा करने से आंखों की रोशनी पर बुरा असर पड़ता है इसके अलावा सूर्य ग्रहण का बुरा असर गर्भवती महिला और उसके गर्भ पर भी पड़ता है.
  • सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को घर के बाहर नहीं निकलना चाहिए. धार्मिक मान्यताओं के मुताबिक़ ग्रहण की छाया गर्भस्थ शिशु के लिए अशुभ होता है. माना जाता है कि सूर्य ग्रहण के प्रभाव से गर्भवती महिला और गर्भस्थ शिशु के त्वचा को नुकसान पहुंचता है.
  • सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को चाकू, ब्लेड, कैंची जैसी किसी भी काटने वाली वस्तु का उपयोग नहीं करना चाहिए. ऐसा करना अशुभ माना जाता है.
  • सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती महिलाओं को सिर्फ फलाहार करना उत्तम होता है.
  • सूर्य ग्रहण के दौरान गर्भवती महिला को फर्श पर फैली घास पर बैठना चाहिए.
Loading...
loading...

Related Articles

Live TV
Close