LIVE TVMain Slideदेशबिहार

बिहार में कोरोना का कहर लगातार जारी आये 566 नए मामले सामने

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान देश के अन्य राज्यों समेत बिहार की भी स्थिति बदतर हो गई थी. कोरोना से मरने वालों की संख्या डरा रही थी. संक्रमण की रफ्तार पर ब्रेक लगाने के लिए नीतीश सरकार ने राज्य में लॉकडाउन लगाने का फैसला किया था.

Loading...

तकरीबन एक महीने तक राज्य में लॉकडाउन लागू किया गया, जिसकी वजह से संक्रमण की रफ्तार काबू में आ गई. लॉकडाउन में कोरोना मरीजों का ग्राफ बड़ी तेजी से गिरा, ऐसे में 8 मई से राज्य में अनलॉक की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है.

बिहार स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी आंकड़ों को देखें तो राज्य में पिछले 24 घंटे में 566 नए मरीज मिले हैं, जिससे कोरोना के एक्टिव मरीजों की संख्या 6,348 पहुंच गई हैं. राज्य के कई जिले ऐसे हैं जहां कोरोना लगभग खत्म हो चुका है, वहां बीते कई दिनों से 10 से भी कम मरीज मिल रहे हैं.

आंकड़ों को देखें तो अरवल, औरंगाबाद, बांका, भागलपुर, भोजपुर, बक्सर, गया, जमुई, जहानाबाद, कैमूर, खगड़िया, लखीसराय, मधुबनी, नालंदा, नवादा, रोहतास, शेखपुरा, शिवहर, पश्चिमी चंपारण में कोरोना के 10 से कम एक्टिव मरीज हैं.

सूबे में कोरोना के गिरते के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बड़ा एलान किया है. मुख्यमंत्री ने ये दावा किया है कि साल के अंत तक राज्य में छह करोड़ टीका लगाया जाएगा.

शुक्रवार को मुख्यमंत्री आवास में आयोजित स्वास्थ्य की समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा सभी लोगों के टीकाकरण के लिए हमलोग लगातार प्रयत्नशील हैं.

मुख्यमंत्री ने कहा अब तक एक करोड़ 30 लाख लोगों का टीकाकरण कराया जा चुका है और अगले छह महीने में 6 करोड़ लोगों का टीकाकरण कराना है. कोरोना का टीका लगाने के लिए सभी लोगों को प्रेरित करना है. उन्हें जानकारी दें कि टीका जीवन की रक्षा के लिए जरूरी है.

Loading...
loading...

Related Articles

Live TV
Close