LIVE TVMain Slideदेशमहाराष्ट्र

महाराष्ट्र में कोरोना के एक्टिव मामलों की संख्या में आई गिरावट

महाराष्ट्र की 46 जेलों में करीब 7600 कैदियों को कोविड-19 वैक्सीन की पहली डोज दी गई है. महाराष्ट्र स्टेट प्रिजन डिपार्टमेंट, पुणे मुख्यालय अधिकारियों के मुताबिक कैदियों में कोविड -19 एक्टिव केस में भी गिरावट का ट्रेंड दिख रहा है.

Loading...

शनिवार को 45 एक्टिव केस थे जबकि मई के अंतिम सप्ताह में यह संख्या 170 थी. जेल विभाग के अधिकारियों के अनुसार, कुल 7590 कैदियों को कोविड वैक्सीन की पहली डोज दी गई है, जिसमें 5573 विचाराधीन कैदी और 2017 सजा पाने वाले कैदी शामिल हैं. इनमें पूरे महाराष्ट्र की 46 छोटी और बड़ी जेलों के पुरुष और महिला दोनों कैदी शामिल हैं.

मई के दूसरे सप्ताह में कैदियों के बढ़ते संक्रमण के मामलों और जेलों में संक्रमण के बढ़ते जोखिम के बीच प्रिजन डिपार्टमेंट ने जेलों में भीड़ कम करने के लिए अंतरिम जमानत पर विचाराधीन कैदियों और इमरजेंसी पैरोल पर कंविक्ट कैदियों को रिहा करने की प्रक्रिया फिर से शुरू की थी. यह प्रक्रिया सरकार द्वारा गठित हाई पावर कमेटी के निर्धारित दिशा-निर्देश के तहत शुरू हुई.

अब तक कुल 1800 कैदियों को जमानत और पैरोल पर रिहा किया जा चुका है. राज्य भर में जेलों की फिलहाल कुल 33,800 कैदी हैं. जिसमें जेलों के मुख्य परिसर और साथ ही कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए स्थापित 40 अस्थायी जेलों के कैदी शामिल हैं.

शनिवार तक टीकाकरण के आंकड़ों के अनुसार, पुणे की यरवदा सेंट्रल जेल के 711 कैदियों को पहली डोज गई है. जबकि ठाणे सेंट्रल 509, कोल्हापुर सेंट्रल 403, नासिक सेंट्रल 643, अमरावती सेंट्रल 909 और आर्थर रोड जेल 410 में कैदियों को वैक्सीन लगाई गई है.

पिछले साल महामारी शुरू होने के बाद से महाराष्ट्र की 47 जेल में से 44 ने कोविड संक्रमण की जानकरी दी है. शनिवार रात तक संक्रमित होने वाले कैदियों के कुल मामलों की संख्या 4098 थी, जिनमें से 4040 ठीक हो चुके हैं और 13 मौत हुई है.

एक्टिव केस की संख्या 45 है. ये एक्टिव केस 46 में से 16 जेलों के हैं. दूसरी जेलों में एक्टिव केस नहीं हैं. यदि इस डेटा की तुलना मई के अंतिम सप्ताह के डेटा से की जाए तो राज्य भर में तब कैदियों में 172 एक्टिव केस थे और संक्रमण के कुल मामलों की संख्या 4029 थी.

Loading...
loading...

Related Articles

Live TV
Close